शिव सेना ने राम मंदिर को लेकर की ये मांग, इससे बढ़ेंगी भाजपा की मुश्किलें, देखें वीडियो

Sanjay Kumar Sharma | Publish: Dec, 06 2018 06:54:32 PM (IST) Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

बाबरी विध्वंस के दिन को शिव सेना ने मनाया शौर्य दिवस, इसे लेकर किए ये कार्यक्रम

मेरठ। बाबरी मस्जिद विध्वंस की बरसी पर शिवसेना ने शौर्य दिवस मनाया। छह दिसंबर को मेरठ के कमिश्नरी पार्क में सेना ने अपने कार्यकर्ताओं के साथ हवन किया और उसके बाद प्रसाद आदि वितरण का कार्यक्रम रखा। इसके बाद शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने एकत्र होकर जुलूस निकाला और ज्ञापन जिलाधिकारी मेरठ के माध्यम से देश के प्रधानमंत्री को भेजा है।

यह भी पढ़ेंः बुलंदशहर बवाल पर इस वरिष्ठ कांग्रेसी नेता ने दिया बड़ा बयान, कहा- तब फिर क्या होता, देखें वीडियो

पहले मंदिर फिर सरकार

जिसमें मांग की गई है कि भाजपा सरकार अयोध्या में श्रीराम जन्म भूमि पर भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए अध्यादेश लेेकर आए। इस दौरान शिव सैनिकों ने नारे लगाए कि हर हिंदू की यही पुकार 'पहले मंदिर फिर सरकार'। शिवसेना के जिला प्रमुख दिनेश कुमार सिंघल ने कहा कि अयोध्या में विदेशी आक्रमणकारी बाबर ने भारत के जनमानस को अपमानित करने के लिए श्रीराम जन्म भूमि पर स्थित श्रीराम मंदिर को ध्वस्त करके अपने नाम से एक ढांचा जन्मभूमि पर खड़ा कर दिया था, लेकिन धार्मिक हिन्दू जनमानस वहां बराबर श्रीराम की पूजा अर्चना करता आ रहा है। उन्होंने कहा कि राम की कृपा से विगत 6 दिसंबर 1992 को ढांचा ध्वस्त हो गया। अब श्रीराम जन्मभूमि पर तिरपाल के मंदिर में विराजमान हैं।

यह भी पढ़ेंः VIDEO: रुबेला टीकाकरण के लिए र्इसार्इ धर्मगुरु कर रहे ये अपील

हिन्दू हुए हैं आहत

उन्होंने कहा कि इससे धार्मिक हिन्दू जनमानस की भावनाएं आहत हो रही है। जबकि हाईकोर्ट ने अब उक्त स्थान पर श्रीराम जन्मस्थान माना है और केंद्र-प्रदेश को मंदिर निर्माण के आदेश दिए हैं। ऐसे में वर्तमान में तो भाजपा सरकार दोनों ही जगहों पर है। फिर सरकार को मंदिर बनाने में देरी हो रही है। उन्होंने कहा कि रही बात सुप्रीम कोर्ट की तो भाजपा सरकार कोर्ट में मंदिर निर्माण की पैरवी खुद करेे। उन्होंने कहा कि हिन्दू अब जाग गया है। हिन्दुओं ने ठान लिया है कि पहले मंदिर बनवाओ उसके बाद ही 2019 में भाजपा सरकार बनवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि शिवसेना मांग करती है कि सरकार श्रीराम जन्म भूमि पर मंदिर निर्माण के लिए संसद में अध्यादेश लाए।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned