Ramnavmi festival इस बार रामनवमी पर पड़ रहे छह शुभ मुहूर्त से बनेंगे बिगड़े काम

Ramnavmi festival पर बन रहे ब्रह्म मुहूर्त, विजय मुहूर्त, गोधूलि मुहूर्त, रवि योग मुहूर्त और निशिता मुर्हूत, ब्रह्म मुहूर्त में होगी भगवान राम की पूजा इस बार 21 अप्रैल को शुरू होगी नवमी तिथि

 

By: shivmani tyagi

Updated: 20 Apr 2021, 07:38 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क

मेरठ meerut news इस बार रामनवमी Ramnavmi festival पर छह शुभ मुहूर्त पड़ रहे हैं। इनमें ब्रहृम मुहूर्त, विजय मुहूर्त, गोधूलि मुहूर्त, रवि योग मुहूर्त और निशिता मुहूर्त शामिल हैं। भगवान श्राी राम के जन्म ram birth का शुभ मुहूर्त 21 अप्रैल सुबह 11 बजकर 02 मिनट से दोपहर 01 बजकर 38 मिनट तक रहेगा।

यह भी पढ़ें: वाराणसी में प्रधानमंत्री के संसदीय कार्यालय में शुरू हुआ कोविड कंट्रोल रूम, इन नंबरों पर करे फोन

पंडित भारत ज्ञान भूषण के अनुसार पूजन अवधि करीब दो घंटे 36 मिनट की रहेगी। चैत रामनवमी का समापन श्री राम जन्म उत्सव के साथ होगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस वर्ष रामनवमी के अवसर पर पांच ग्रहों का शुभ संयोग बन रहा है। इससे पहले ऐसा संयोग 2013 में बना था इस हिसाब से यह दुर्लभ संयोग पूरे 9 वर्षों के बाद बन रहा है।

यह भी पढ़ें: कोरोनाः लक्षण हैं तो न लें टेंशन, स्वास्थ्य विभाग ने जारी की दवाईयों की लिस्ट, जानें कब और कैसे खाएं

रामनवमी 21 अप्रैल को सुबह 7 बजकर 59 मिनट तक पुष्य नक्षत्र रहेगा, इसके बाद अश्लेषा नक्षत्र आरंभ होगा जो सुबह 08 बजकर 15 मिनट तक रहेगा। इस दिन चंद्रमा पूरे दिन और रात स्वयं की राशि कर्क में संचार करेगा, सप्तम भाव में सप्तम भाव में स्वग्रही शनि, दशम भाव में सूर्य, बुध और शुक्र है। तो वहीं इस दिन बुधवार रहेगा। ग्रहों की इस स्थिति के कारण इस बार की रामनवमी बेहद शुभ रहेगी। इस दिन पूजा पाठ और खरीददारी करना बेहद शुभफलदाई रहेगा।

नहीं होंगे कार्यक्रम
कोरोना संक्रमण के चलते इस बार कोई सामूहिक कार्यक्रम नहीं आयोजित किए जा सकेंगे। कोरोना संक्रमण के चलते भगवान Shree Ram राम का जन्मोत्वस घरों में ही मनाया जाएगा। इसके लिए घर पर ही हवन और पूजन किया जाएगा। मंगलवार को लोगाें ने रामनवमी का व्रत रखा। भगवान राम के जन्म का प्रसाद लेकर श्रद्धालुगण अपना व्रत तोड़ेगे। कोरोना महामारी के कारण इस बार रामनवमी का जुलूस नहीं निकाला जा सकेगा। मंदिरों में पूजा अर्चना के लिए विशेष तैयारी की गई है। हालांकि कई मंदिरों में लोगों के प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। मंदिरों से लेकर अन्य स्थानों पर ध्वज बदले जाएंगे।

Show More
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned