मेरठ का लाल आतंकियों के साथ हुई मुठभेड़ में शहीद

  • पैतृक गांव में राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार
  • मेरठ के सिसौली कस्बे के रहने वाले थे अनिल कुमार
  • जम्मू कश्मीर के शोपियां जिले में तैनात थे अनिल

By: shivmani tyagi

Updated: 28 Dec 2020, 10:50 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ (meerut news) आतंकवादियों से लोहा लेते हुए मेरठ जनपद के सपूत और देश के वीर सिपाही ( soldier ) घातक प्लाटून हवलदार अनिल कुमार शहीद हो गये। शहीद (martyred ) का पार्थिव शरीर मंगलवार उनके पैतृक गांव पहुंचेगा। यहां पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा।

यह भी पढ़ें: यूपी के मेरठ में गौकश और पुलिस के बीच चली गोलियां

जानकारी के अनुसार मेरठ जनपद के गांव सिसौली गढ़ रोड निवासी भारतीय थलसेना की 44 वीं राष्ट्रीय राइफल्स ( जिला शोपियां एवं पुलवामा, जम्मू कश्मीर ) में बतौर घातक प्लाटून हवलदार अनिल कुमार तोमर देश की रक्षा करते हुए शहीद हो गये। हवलदार अनिल तोमर एक बहुत ही बहादुर सैनिक थे। उनकी मूल यूनिट 23 राजपूत थी और अभी 44 वीं राष्ट्रीय राइफल्स ( राजपूत ) में तैनात थे। हवलदार अनिल आजकल कमान अधिकारी की क्यूआरटी के कमांडर थे।

यह भी पढ़ें: यूपी गेट पर गुस्साए किसानों ने निकाली प्रधानमंत्री के पुतले की शवयात्रा

26 दिसम्बर को दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले के कनीगाम गांव में आतंकवादियों के छिपे होने की खबर मिली। आतंकवादियों को पकड़ने के लिए कार्डन एंड सर्च ऑपरेशन चलाया गया। इसी बीच आतंकवादियों और फौज की मुठभेड़ हो गई। हवलदार अनिल कुमार ने पूरी बहादुरी के साथ आतंकवादियों का सामना किया। मुठभेड़ ( terrorist attack ) के दौरान वे बुरी तरह से जख्मी हो गये उन्हें तुरंत हेलीकाॅप्टर से श्रीनगर स्थित 92 बेस अस्पताल लाया गया, जहां उपचार के दौरान उनकी माैत हाे गई। साेमवार सुबह आखिरी सांस ली।

शहीद हवलदार अनिल कुमार तोमर का पार्थिव शरीर कल मेरठ लाया जाएगा। यहां पर पूर्ण राजकीय सम्मान से उनका अंतिम संस्कार किया जायेगा।

Show More
shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned