सपाइयों ने घेरा डीएम कार्यालय, सपा नेताओं काे झूठे मुकदमों में फंसाने के आराेप, देखें वीडियो

मेरठ। सपा नेताओं पर मुकदमें दर्ज किए जाने के विरोध में सैकड़ों की संख्या में सपाइयों ने डीएम कार्यालय का घेराव किया। सपाइयों का आरोप है कि इस समय प्रदेश में आपातकाल जैसे हालात बने हुए हैं। जो भी भाजपाईयों के खिलाफ आवाज उठा रहा है उसके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।

By: shivmani tyagi

Updated: 19 Sep 2020, 05:37 PM IST

Meerut, Meerut, Uttar Pradesh, India

मेरठ। सपा नेताओं पर मुकदमें दर्ज किए जाने के विरोध में सैकड़ों की संख्या में सपाइयों ने डीएम कार्यालय का घेराव किया। सपाइयों का आरोप है कि इस समय प्रदेश में आपातकाल जैसे हालात बने हुए हैं। सपा नेता अदिल चौधरी ने कहा कि सपा भाजपा सरकार के इस तानाशाही रवैये से डरने वाली नहीं है।

यह भी पढ़ें: Video देवबंदी उलेमा बोले भड़काऊ भाषण देकर फसाद चाहते हैं यति नरसिंहानंद महाराज, कार्रवाई की मांग

समाजवादी पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ता और नेताओं ने शनिवार काे मेरठ डीएम ऑफिस पर जमकर प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं और नेताओं का कहना है कि लोगों के हक हकूकों की लड़ाई लड़ने से सरकार बौखला रही है और सपा के नेताओं पर मुकदमा दर्ज कर रही है। इस तरह की तानाशाही किसी भी रूप में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

यह भी पढ़ें: लव जेहाद : रवि बनकर सलमान ने युवती को प्रेमजाल में फंसाकर किया अपहरण

सपाईयों ने कहा कि, मेरठ में कई ऐसे मामले हुए जिनमें सपाइयों ने प्रशासन और पुलिस की नाक में दम कर दिया। इनमें अवैध शराब से मरने वाला मामला हो या फिर किसानों के मुआवजे को लेकर हुआ हंगामा। मेडिकल थाना क्षेत्र में व्यापारी की हत्या लूट के मामले में समाजवादी पार्टी ने काफी हंगामा किया था। इसके बाद जानी थाना क्षेत्र में जहरीली शराब पीने से तीन लोगों की मृत्यु हो गई। इस मामले में भी समाजवादी पार्टी ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। बाकायदा यहां समाजवादी पार्टी ने कार्रवाई की मांग को लेकर महापंचायत कर डाली लेकिन इस बीच थाना जानी पुलिस ने समाजवादी पार्टी के नेता अतुल प्रधान और शफीकुर्रहमान पर मुकदमा दर्ज कर लिया। आदिल चौधरी ने कहा कि सपा के नेताओं कार्यकर्ताओं पर यह मुकदमा झूठा दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ें: सपा बाेली हर माेर्चे पर फेल है याेगी सरकार, बताई ये वज

इस मुकदमे में उन्हीं लोगों को वादी बनाया गया है जिनके परिजनों की शराब पीने से मृत्यु हो गई जबकि इस बात से वादी पक्ष ने इंकार कर दिया। वादी पक्ष ने साफ कह दिया है कि उन्हाेंने काेई शिकायत नहीं है। बावजूद इसे पुलिस कार्रवाई करने पर तुली हुई है इसी को लेकर समाजवादी पार्टी के लोगों ने कलेक्ट्रेट पर जमकर प्रदर्शन किया उन्होंने कहा है कि सरकार समाजवादी पार्टी के नेताओं की आवाज दबाना चाहती है क्योंकि झूठे मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned