क्वारंटाइन किए गए संदिग्ध मरीज को पांचवीं मंजिल पर खिड़की पर लटके देखा तो मच गई खलबली, इसके बाद ये हुआ

Highlights

  • मेरठ के सुभारती अस्पताल में क्वारंटाइन सेंटर का मामला
  • गार्ड ने खिड़की पर मरीज को लटके देखा तो मचा दिया शोर
  • अफसर पहुंचे क्वारंटाइन सेंटर, पुलिस बल बढ़ाया गया

 

By: sanjay sharma

Published: 18 Apr 2020, 07:13 PM IST

मेरठ। क्वारंटाइन सेंटरों से कोरोना पीडि़तों या संदिग्धों के भागने की जानकारी जैसे ही पुलिस को लगी हड़कंप मच गया। बता दें कि कुछ दिन पूर्व ही मंडल के बुलंदशहर में 14 कोरोना संदिग्ध खिड़की तोड़कर फरार हो गए थे। इसी तरह से एक कोरोना पीडि़त बागपत से फरार हो गया था। मेरठ में इन दिनों बाईपास स्थित सुभारती अस्पताल में क्वारंटाइन केंद्र बनाया हुआ है। जहां पर कोरोना के संदिग्ध मरीजों को रखा हुआ है। शुकवार की देर रात सुभारती अस्पताल में क्वारंटाइन किए गए कोरोना के पांच संदिग्ध मरीजों के भागने की सूचना पर पुलिस में हड़कंप मच गया।

यह भी पढ़ेंः Lockdown: गरीबों के लिए सामुदायिक रसोई में मिले सड़े आलू, सुपरवाइजर सस्पेंड, अफसरों ने शुरू की जांच

मौके पर पहुंची पुलिस ने जब सेंटर पर पहुंचकर हकीकत पता की, तब जाकर जान आई। पुलिस को पूछताछ में गार्ड ने बताया कि पांचवीं मंजिल में पांच संदिग्ध मरीज हैं। उनमें से एक खिड़की से लटक रहा था, जिसको देखते हुए गार्ड ने शोर मचा दिया। इसके बाद अन्य गार्ड भी मौके पर आ गए।

यह भी पढ़ेंः Lockdown में कोरोना हॉटस्पॉट का जायजा लेने पहुंचे अफसर, बेवजह घर से निकले लोगों के खिलाफ की ये कार्रवाई

शनिवार को पुलिस अधिकारी भी सुभारती पहुंचे और उन्होंने स्वास्थ्य विभाग की टीम से बातचीत की। इस दौरान पुलिस अधिकारियों ने गार्ड को जरूरी दिशा-निर्देश दिए। वहीं कुछ पुलिसकर्मियों को भी वहां पर तैनात कर दिया। बता दें कि अलग-अलग स्थानों से आए कोरोना के संदिग्ध मरीजों को सुभारती अस्पताल में क्वारंटाइन किया हुआ है। पांचवीं मंजिल पर पांच संदिग्ध मरीज हैं। शुक्रवार देर रात एक संदिग्ध मरीज खिड़की से लटक रहा था, तभी उसे बाहर खड़े गार्ड ने देख लिया। उसने मरीजों के भागने के प्रयास का शोर मचा दिया। सूचना पर पुलिस भी पहुंच गई थी।

यह भी पढ़ेंः Meerut: संदिग्ध कोरोना मरीज की मृत्यु के बाद रिपोर्ट आयी पाॅजिटिव, जनपद में अब तक तीन मरीजों की मौत

जानी थाना प्रभारी योगेंद्र पाल सिंह ने बताया कि गार्ड से पूछताछ की तो उसने बताया कि मरीज खिड़की से आधा बाहर लटक रहा था। अन्य मरीज भी उसके पास खड़े थे। उसे लगा कि वे भागने का प्रयास कर रहे हैं। इसलिए उसने शोर मचा दिया था। थाना प्रभारी ने बताया कि खिड़की पर लोहे के ग्रिल होने के कारण कोई बाहर नहीं निकल सकता। वहीं गेट पर भी गार्डों की तैनाती हैं।

sanjay sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned