Swine Flu: पीएसी के 482 जवानों को कैंपस से बाहर नहीं निकलने की सलाह, डॉक्टर और बच्चे समेत छह नए मरीज मिले

Highlights

  • स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची छठी वाहिनी पीएसी कैंपस
  • इस साल मेरठ जनपद में 77 लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि
  • अब तक 12 लोगों की मौत, मेरठ के नौ, बाकी अन्य जिलों के

By: sanjay sharma

Published: 01 Mar 2020, 11:10 AM IST

मेरठ। मेरठ जनपद में स्वाइन फ्लू का कहर जारी है। पिछले 24 घंटों में चिकित्सक व बच्चे समेत छह लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। इस तरह अब तक इस साल 77 लोगों में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। अभी तक 12 लोगों की मौत भी हो चुकी है। इनमें नौ मेरठ जनपद के और बाकी अन्य जनपदों के मरीज हैं। इसी बीच, छठी वाहिनी पीएसी के 482 जवानों को कैंपस से नहीं निकलने की सलाह दी गई है। इन्हें टेमीफ्लू की दवा दी जा रही है।

यह भी पढ़ेंः सपा के पूर्व मंत्री ने बेटे की शादी में जमकर की हर्ष फायरिंग, दूल्हे पर भी मुकदमा दर्ज, जल्द हो सकती है गिरफ्तारी

स्वास्थ्य विभाग की टीम मोदीपुरम स्थित छठी वाहिनी पीएसी पहुंची और यहां टीम ने पीएसी के 482 जवानों को स्वाइन फ्लू के अंदेशे में टेमी फ्लू की दवा दी है। इन्हें कैंपस से बाहर निकलने पर रोक लगा दी गई है, ताकि स्वाइन फ्लू नहीं फैले। इन्हें यहां पांच दिन तक टेमी फ्लू दवा दी जाएगी। इसके साथ-साथ शनिवार की शाम को संचारी निदेशालय लखनऊ की तीन सदस्यीय टीम मेरठ पहुंची। टीम ने आते ही मेडिकल कालेज के स्वाइन फ्लू वार्ड का निरीक्षण किया और मरीजों की स्थिति की पड़ताल की और चिकित्सकों से बातचीत की। सीएमओ डा. राजकुमार ने बताया कि स्वाइन फ्लू के भर्ती पीएसी के 17 जवानों समेत इस वार्ड में भर्ती मरीजों की स्थिति में सुधार है, इन पर खास निगरानी रखी जा रही है।

यह भी पढ़ेंः जनप्रतिनिधियों को नोटिस दिए जाने पर पुलिस अफसरों पर भड़के भाजपा के पूर्व प्रदेशाध्यक्ष, कही ये बड़ी बात

पिछले 24 घंटे में स्वाइन फ्लू से पीडि़त छह नए मरीजों की पुष्टि हुई है। मेडिकल कालेज की माइक्रोबायलॉजी लैब में आए 16 सेंपलों की जांच की गई। इनमें छह को एच1एन1 वायरस पॉजिटिव मिला है। नए मरीजों में मेडिकल कालेज के सर्जरी विभाग के एक रेजीडेंट डॉक्टर, खरखौदा का एक बच्चा, सिविल लाइन क्षेत्र के बुजुर्ग, मवाना की महिला और सिखैड़ा के दो दो लोगों को स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। चिकित्सकों के मुताबिक बारिश में भीगने या मौसम में ठंडापन होने से सावधानी की जरूरत है। नजला-जुकाम, गले में इंफेक्शन और बुखार होने से तुरंत चिकित्सक को दिखाएं, ताकि स्वाइन फ्लू की जल्दी पहचान करके इसका उपचार किया जा सके।

Show More
sanjay sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned