श्मशान में जल रही चिता के साथ हुआ ऐसा हादसा जिसे देखकर लोगों की निकल गई चींख

Highlights

  • थाना गंगानगर के इंचौली कस्बा स्थित श्मशान घाट का मामला
  • मौके पर पहुंची पुलिस ने दबी चिता से शव को बाहर निकाला
  • 40 वर्षीय सब्जी कारोबारी की जल रही थी चिता

By: shivmani tyagi

Updated: 18 Oct 2020, 09:30 PM IST

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क. मेरठ। श्मशान घाट में जल रही चिता के साथ ऐसा अजीब हादसा हुआ कि वहां पर मौजूद लोगों की चींख निकल गई। चिता में जल रहा शव अचानक से मलबे में दब गया। घटना थाना इंचौली कस्बे स्थित श्मशान घाट की है। जहां पर सड़क हादसे में मारे गए युवक की जलती चिता पर अचानक श्मशान की छत गिर गई। गनीमत रही कि कोई भी व्यक्ति उस वक्त भीतर मौजूद नहीं था। घटना की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और मलबे में दबी चिता से शव को बाहर निकाला।

यह भी पढ़ें: जयंत चौधरी के कोरोना संक्रमित होने से रालोद के कई नेताओं में हड़कंप

इंचौली कस्बा स्थित मोहल्ला बड़ी पट्टी निवासी सब्जी कारोबारी कालीचरण गत शुक्रवार को लावड़ कस्बे से मिनी ट्रक में सब्जी भरकर ला रहे थे। मवाना रोड पर इंचौली व मसूरी के बीच वह मिनी ट्रक से नीचे गिर गए। उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां पर इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। देर शाम पोस्टमार्टम के बाद कालीचरण का शव घर लाया गया। इसके बाद परिजन व ग्रामीण शव का अंतिम संस्कार करने श्मशान में पहुंचे। परिजन चिता में आग लगने के बाद वापस लौटने की तैयारी कर रहे थे। इसी बीच श्मशान की छत तेज आवाज के साथ जलती चिता के ऊपर गिर पड़ी।

यह भी पढ़ें: Greater Noida की सड़कों पर दुर्घटना के बाद घिसटता दिखा दुर्लभ जानवर 'साही' वन विभाग इलाज में जुटा

गनीमत रही कि कोई भी व्यक्ति मलबे में नहीं दबा। ग्रामीणों की सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और मलबे में दबे शव को बाहर निकाला। ईंटे गर्म होने की वजह से शव को निकालने में परेशानी का सामना करना पड़ा। घटना के बाद ग्रामीणों में प्रशासन के खिलाफ आक्रोश फैल गया। ग्रामीणों ने बताया कि करीब दस साल पूर्व सपा सरकार में श्मशान का निर्माण हुआ था। श्मशान तक जाने के लिए कोई पक्का रास्ता भी नहीं बना हुआ है। ग्रामीणों ने प्रशासन से श्मशान का निर्माण कराए जाने की मांग की है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned