आषाढ़ पूर्णिमा पर इस बार बन रहा रहा शिव-पार्वती की पूजा का योग

23 जुलाई काे आषाढ़ पूर्णिमा पर इस बार भगवान विष्णु का वास जल में होगा इसलिए इस दिन शिव-पार्वती पूजा का योग बन रहा है।

By: shivmani tyagi

Updated: 22 Jul 2021, 11:00 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ वैसे तो पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु की पूजा करने का विधान है लेकिन साल में एक पूर्णिमा ऐसी भी आती है जिसमें भगवान शिव और पार्वती की पूजा की जाती है। इस पूर्णिमा पर शिव-पार्वती की पूजा करने से अक्षय फल मिलता है। यह पूर्णिमा है आषाढ़ महीने की। इस दिन किए गए दान और उपवास से अक्षय फल मिलता है। इस बार 23 जुलाई शुक्रवार को यह शुभ दिन है।

यह भी पढ़ें: यूपी के सरकारी कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, इस माह से मिलेगी बढ़ी सैलरी, अगर सीएम ने कर दिया 'ओके'

हिंदू कैलेंडर में हर महीने आने वाली पूर्णिमा शुक्लपक्ष की 15वीं तिथि होती है। इस दिन चंद्रमा 16 कलाओं वाला होता है। यानी पूर्ण होता है। इसलिए इसे पूर्णिमा कहा गया है। इस तिथि को धर्मग्रंथों में पर्व कहा गया है। इस तिथि पर भगवान विष्णु और श्रीकृष्ण की पूजा की जाती है।स्कंद पुराण के अनुसार आषाढ़ महीने की पूर्णिमा ( इस बार 23 जुलाई, शुक्रवार) पर भगवान विष्णु का वास जल में होता है। इसलिए तीर्थ या पवित्र नदियों में स्नान किया जाता है। आषाढ़ महीने की पूर्णिमा पर भगवान शिव और पार्वती की पूजा भी की जाती है। इस दिन किए गए दान और उपवास से अक्षय फल मिलता है।

आषाढ़ पूर्णिमा का है विशेष महत्व
आषाढ़ महीने की पूर्णिमा पर तीर्थ स्नान, दान और पूजा-पाठ का विशेष महत्व है। इस महीने की पूर्णिमा पर भगवान शिव-पार्वती की पूजा के साथ कोकिला व्रत किया जाता है। इस व्रत के प्रभाव दांपत्य सुख बढ़ता है और अविवाहित कन्याओं को अच्छा वर मिलता है। इसके साथ ही भगवान विष्णु की विशेष पूजा की जाती है।

ज्योतिष में पूर्णिमा का अपरमपार महिमा
ज्योतिषाचार्य एवं कर्मकांड विशेषज्ञ पंडित अनिल शास्त्री के अनुसार सूर्य से चन्द्रमा का अन्तर जब 169 से 180 तक होता है, तब पूर्णिमा तिथि होती है। इसके स्वामी स्वयं चन्द्र देव ही हैं। पूर्णिमान्त काल में सूर्य और चन्द्र एकदम आमने-सामने होते हैं। यानी इन दोनों ग्रहों की स्थिति से समसप्तक योग बनता है। पूर्णिमा का विशेष नाम सौम्या है। यह पूर्णा तिथि है। यानी पूर्णिमा पर किए गए शुभ काम का पूरा फल प्राप्त होता है। ज्योतिष ग्रंथों में पूर्णिमा तिथि की दिशा वायव्य बताई गई है।

प्रत्येक महीने की पूर्णिमा पर्व
हर माह की पूर्णिमा को कोई न कोई पर्व जरूर मनाया जाता है। इस दिन का भारतीय जनजीवन में अत्यधिक महत्त्व हैं। हर महीने की पूर्णिमा पर एक समय भोजन किया जाए और चंद्रमा या भगवान सत्यनारायण का व्रत करें तो हर तरह के सुख प्राप्त होते हैं। साथ ही समृद्धि और पद-प्रतिष्ठा भी मिलती है।

यह भी पढ़ें: आयकर विभाग ने भाजपा विधायक के घर की छापेमारी, कई नेताओं के ठिकानों पर भी मारी रेड

यह भी पढ़ें: LPG Gas Booking offer: गैस सिलेंडर बुक करने पर बचा सकते हैं 2700 रुपए, दो माह का है वक्त, जानें पूरी detail

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned