कश्मीर में तैनात DIG के परिजनों को पाकिस्तान से आई धमकी भरी कॉल, बढ़ाई गई सुरक्षा

मेरठ के रहने वाले डीआईजी की जम्मू है पोस्टिंग
गत 17 अगस्त को डीआईजी ने मारे थे तीन आतंकी
मेरठ पुलिस ने परिजनों की सुरक्षा बढाई

By: shivmani tyagi

Published: 22 Aug 2020, 05:33 PM IST

मेरठ ( Meerut ) जम्मू-कश्मीर में तैनात सुरक्षा अधिकारियों के परिजनों को भी अब पाकिस्तान से धमकी भरे फोन आने लगे हैं। मेरठ निवासी जम्मू में तैनात सीआरपीएफ के डीआईजी का परिवार मेरठ में मेडिकल थाना क्षेत्र की एक कालोनी में रहता है। डीआईजी के परिजनों के मोबाइल पर वाट्सएप कॉल आई जो कि पाकिस्तान से आई थी। पाकिस्तान से आई वाट्सएप कॉल में परिजनों को धमकी दी गई है। इसके बाद परिवार के लोगों ने अपने मोबाइल बंद कर लिए हैं।

यह भी पढ़ें: सुशांत सिंह मामले की जांच CBI से कराने पर साध्वी प्राची ने महाराष्ट्र सरकार काे घेरा, कहा पालघर मामले की जांच भी करे सीबीआई

इसकी जानकारी जिले के आला पुलिस अधिकारियों को दी गई है। जिस पर डीआईजी के घर के बाहर पुलिस तैनात कर दी गई है। इसके साथ ही कालोनी के बाहर डायल 112 भी तैनात कर दी गई है। घर पर पुलिस फोर्स तैनात कर बैरियर लगा दिए गए हैं। कालोनी में प्रवेश से पहले सभी की चेकिंग की जा रही है। मेडिकल थाना क्षेत्र के रहने वाले सीआरपीएफ के डीआइजी विनय कुमार शर्मा की तैनाती जम्मू में है। बताया गया कि 17 अगस्त को बारामूला जिले में मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए थे। सूत्रों के मुताबिक आतंकियों के पास से मिली डायरी में डीआइजी का नाम, घर का पता, स्वजनों की जानकारी के साथ ही कुछ अन्य अधिकारियों की भी निजी जानकारी लिखी हुई थी। मुठभेड़ के बाद डीआइजी के परिजनों के मोबाइल पर पाकिस्तान के नंबर से वाट्सएप कॉल आई। कॉलर मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों का बदला लेने की बात कहते हुए परिजनों को जान से मारने की धमकी दे रहा है। कॉलर ने कहा कि देश भर में आतंकी मौजूद हैं। इसके बाद कॉल कट जाती है। परिजनों ने जम्मू में डीआइजी को फोन पर जानकारी देने के बाद मेरठ के पुलिस अधिकारियों को पूरा मामला बताया।

यह भी पढ़ें: STF के पहुंचते ही भाजपा नेता ने 20 करोड की किताबों में लगवा दी आग, जानिए क्यों

परिजनों ने अपने मोबाइल बंद कर लिए हैं। इस धमकी के बाद कालोनी में पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है। घर के बाहर यूपी 112 भी तैनात है। सोसाइटी की ओर से भी निजी सुरक्षा गार्डों की संख्या बढ़ाई गई है। सोसायटी अध्यक्ष ने बताया कि कालोनी में बैरियर लगा दिए गए हैं। किसी अंजान व्यक्ति को सोसायटी में नहीं आने दिया जा रहा है। धमकी मिलने के बाद परिजनों ने घर से निकलना बंद कर दिया है। डीआइजी की पत्नी, दो बेटे और बड़ी बहू जॉब करते हैं। धमकी मिलने के बाद से ही वह बाहर नहीं निकल रहे हैं। मोबाइल भी बंद कर लिए हैं।

यह भी पढ़ें: Ganesh Chaturthi : लॉकडाउन में भगवान गणेश करते रहे भक्तों का इंतजार

जम्मू जाने से पहले विनय कुमार की तैनाती मेरठ के वेदव्यासपुरी में थी। ढाई साल पहले ही उनका स्थानांतरण हुआ था। बताया जा रहा है कि पहले भी उनकी तैनाती जम्मू में रही है। इस बारे मे एसपी सिटी डॉक्टर एएन सिंह ने बताया कि कालोनी में पुलिस तैनात की गई है।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned