लॉकडाउन के बाद Driving Licence और वाहन दस्तावेज़ों को लेकर जारी हुई गाइडलाइन

Highlights

-वाहनों से संबंधित दस्तावेजों की मान्यता अब 31 दिसंबर तक बढाई

-31 दिसंबर तक नहीं लगेगा कोई विलंब शुल्क

-जमा शुल्क को ही माना जाएगा वैध

By: Rahul Chauhan

Published: 26 Aug 2020, 10:43 AM IST

मेरठ। कोरोना महामारी के दौर में जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। ऐसे में वाहन मालिकों को राहत देने के लिए एक बड़ा फैसला फिर से लिया गया है। जिसके तहत वाहन दस्तावेजों की मान्यता 31 दिसंबर तक बढ़ाई गई है। एक बार फिर से मोटर वाहन और ड्राइविंग लाइसेंस के दस्तावेजों की वैधता को बढ़ा दिया गया है। जिसके बाद अब ये वैधता 31 दिसंबर तक मान्य होगी।

अगर किसी ने वाहन दस्तावेजों के नवीनीकरण या इससे संबंधित अन्य किसी प्रमाण पत्र के लिए फीस जमा करवा रखी है व लॉक डाउन के कारण अगर उनकी प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई है तो इस जमा शुल्क को वैध माना जाएगा। अगर यह शुल्क जमा नहीं करवाया जा सका है तो 31 दिसम्बर तक कोई विलंब नहीं लगेगा।

ये तीसरी बार है जब ये अवधि बढ़ाई गई है। इससे पहले ये अवधि 30 सितंबर तक की गई थी। ये अवधि 30 मार्च और 9 जून के बाद बार फिर बढ़ाई गई है। नए फैसले के अंतर्गत केंद्रीय मोटर वाहन नियम 1989 के तहत फिटनेस, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने मोटर वाहन अधिनियम 1988 और परमिट, लाइसेंस, पंजीकरण या अन्य दस्तावेजों की वैधता को 31 दिसंबर 2020 तक बढ़ाने का फैसला किया है।

एआरटीओ प्रशासन श्वेता वर्मा ने बताया कि सरकार की ओर से सभी प्रकार के वैध कागजों की वैधता 31 दिसंबर तक बढा दी गई है। उन्होंने बताया कि लर्निग लाइसेंस जिस प्रकार से बन रहे हैं वो प्रक्रिया उसी तरह संचालित रहेगी।

Rahul Chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned