बारिश ने तोड़ा पिछले 10 साल का रिकार्ड, अब शीतलहर के साथ पड़ेगी हाड़ कंपा देने वाली ठंड

Highlights
- बारिश के बाद कोहरा दिखाएगा सितम
- जायद की फसल को मिलेगा लाभ
- हवा के दबाव के चलते अभी और होगी बारिश

मेरठ. जिले में दो दिन की बारिश ने विगत 10 सालों का रिकार्ड तोड़ दिया है। अभी भी बारिश के आसार बने हुए हैं। वहीं बारिश के चलते प्रदूषण बिल्कुल गायब हो गया है। बीती गुरुवार को दिन भर हल्की बारिश से तापमान में काफी गिरावट आई। कृषि वैज्ञानिकों के अनुसार आने वाले समय में इस बारिश से जायद की फसल को फायदा मिलेगा।

मौसम विज्ञानियों के मुताबिक, बारिश और ओलावृष्टि के पीछे पश्चिमी विक्षोभ को कारण माना जा रहा है। पश्चिम से पूरब की ओर हवा चलने और हवा का दबाव नीचे होने की वजह से बुधवार रात पश्चिम उत्तर प्रदेश में बारिश शुरू हुई। मेरठ में ओले भी पड़े। गुरुवार को सुबह बारिश हुई। इसके बाद दिन में कई बार रुक-रुक का बारिश हुई। बेमौसम बारिश की वजह से अचानक ठंड बढ़ गई है।

यह भी पढ़ें- पूर्व मुख्यमंत्री के फ्लैट से 54 लाख की चोरी का खुलासा, नोएडा से तीन बदमाश गिरफ्तार, देखें Video

बता दें कि शुक्रवार का दिन बीते गुरुवार से भी अधिक ठंडा रहा। ग्रामीण इलाके का न्यूनतम तापमान सामान्य से 10 डिग्री कम हो गया है। दिन का अधिकतम तापमान जो 15.8 डिग्री सेल्सियस था, वो भी तीन डिग्री घट गया है। मौसम विज्ञानियों के अनुसार, अब ठंड बढ़ने के साथ कोहरा भी पड़ेगा। मौसम विज्ञान के आंकड़ों को देखें तो 28 नवंबर को दिन के तापमान में सबसे अधिक गिरावट हुई। वर्ष 2010 से 2019 तक नवंबर के महीने में अधिकतम तापमान 28 से 32 डिग्री रहा है। जबकि 28 नवंबर को मेरठ में अधिकतम तापमान 18 डिग्री सेल्यिस रहा।

कृषि वैज्ञानिक प्रो. आरएस सेंगर का कहना है कि ओले पड़ने से फसलों को नुकसान हुआ है। बारिश से रबी की फसलों को कोई नुकसान नहीं हुआ है। जनवरी में जायद की फसलों को बारिश का फायदा मिलेगा। मौसम वैज्ञानिक डा. एन. सुभाष का कहना है कि बुधवार से गुरुवार तक यानी 24 घंटे में शहर में 25.8 एमएम बारिश हुई। वहीं गुरुवार की सुबह से शाम तक 6.8 मिलीमीटर बारिश हुई। इस तरह से जिले में अब तक कुल 32.6 मिलीमीटर बारिश हो चुकी है।

नवंबर में बारिश का रिकार्ड

वर्ष 2009 से 2018 तक नवंबर के महीने में इतनी बारिश नहीं हुई है, जितनी बुधवार और गुरुवार को हुई है। 1981 से 2010 तक नवंबर में 1.3 मिलीमीटर बारिश का औसत रहा है। 2009 से 2018 में 28.6 मिलीमीटर बारिश का औसत रहा। वहीं नवंबर 2019 में अभी तक 33.2 मिलीमीटर बारिश हो चुकी है।

यह भी पढ़ें- Video: युवती के अपहरण के बाद एसएसपी ऑफिस में हंगामा, आरोपी के पिता को महिला ने जड़े थप्पड़

Show More
lokesh verma
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned