गंगा एक्सप्रेस-वे योजना पर काम शुरू, 2023 तक बदल जाएगी यूपी की तस्वीर

यूपीडा ने जमीन खरीदने का काम किया तेज
मेरठ से प्रयागराज तक बन रहा है एक्सप्रेस-वे
देश विदेश की 11 कंपनियों से मांगी जाएगी बिड
एसबीआई कैपिटल वित्तीय सलाहकार कंपनी

By: shivmani tyagi

Updated: 17 Apr 2021, 12:56 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मेरठ meerut news देश के एक और लंबे बहुप्रतिक्षित गंगा एक्सप्रेस-वे Ganga Express Way का निर्माण कार्य जल्द ही शुरू हो जाएगा। सरकार UP government की कोशिश है कि इसका शिलान्यास कराकर निर्माण काम शुरू कर दिया जाए। इसके लिए एक ओर यूपीडा जमीन खरीदने का काम तेजी से कर रहा है तो वहीं निर्माण एजेंसियों के चयन का काम भी तेजी से शुरू हो गया है। मेरठ से प्रयागराज तक बनने वाले इस एक्सप्रेस-वे को दिसंबर 2023 तक पूरा करने की तैयारी चल रही है।

यह भी पढ़ें: World Heritage Day 2021 : नूरजहां ने रखी थी बाबा शाहपीर के मकबरे की बुनियाद, हर दुआ होती है कुबूल

यूपीडा इस एक्सप्रेस-वे को पीपीपी मॉडल के तहत डीबीएफओटी ( डिजाइन, बिड, फाइनेंस, ऑपरेट ट्रांसफर ) पद्धति पर निर्माण कंपनियों का चयन करेगी। अभी तक देश-विदेश की 11 प्रतिष्ठित कंपनियों ने इस प्रोजेक्ट में अपनी इच्छा जताई है। इनमें मलेशिया की आईजेएम कारपोरेशन व दक्षिण कोरिया की इनटोपिया बढत बनाए हुए हैं। इन सभी 11 कंपनियों को गंगा एक्सप्रेस-वे की साइट का दौरा कराया जाएगा ताकि वह काम की महत्ता व व्यापकता को समझ लें। इसके बाद इच्छुक कंपनियों से बिड मांगी जाएगी।

यह भी पढ़ें: रामजन्मभूमि परिसर में स्थापित होगी कोदंड राम की मूर्ति, ग्वालियर से रामभक्त ने ट्रस्ट के सचिव को सौंपा

निर्माण कार्य के लिए फंड जुटाने व आगे की वित्तीय व्यवस्था के लिए वित्तीय सलाहकार कंपनी एसबीआई कैपिटल की सलाह ली जा रही है। जून तक 90 प्रतिशत जमीन खरीदने का लक्ष्य रखा गया है। योगी सरकार की मंशा है कि इसका शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कराने की तैयारी कर रही है। संभव है कि इसी के साथ प्रदेश सरकार की दूसरी महत्वाकांक्षी परियोजना नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट जेवर का भी शिलान्यास करा दिया जाए। करीब 600 किमी के इस एक्सप्रेसवे के दोनों ओर स्टोन बाउंड्री का काम भी जल्द शुरू होना है। इस पर 401 करोड़ रुपये का खर्चा आएगा। यूपीडा ने इच्छुक निवेश्कों से इसके लिए बिड आमंत्रित किए हैं।

ये भारतीय कंपनियां रेस में
दो विदेशी कंपनियों के अलावा 9 भारतीय कंपनियां भी गंगा एक्सप्रेसवे के निर्माण के लिए रेस में हैं। इनमें वेल्सनपन इंटरप्राइज, अडानी रोड ट्रांसपोर्ट, मोंटेकार्लो, ग्वार कांस्ट्रक्शन,पीएनसी इंफ्राटेक, प्रकाश एंड टोल हाइवे इंडिया, आरेयिंटल स्ट्रक्चरल प्राइवेट लिमिटेड, अशोका बिल्डकान, आयरकान इंटरनेशनल शामिल हैं।


गंगा एक्सप्रेस वे की ये होगी खासियत
गंगा एक्सप्रेस-वे परियोजना की कुल अनुमानित लागत रू 36410 करोड़
एक्सप्रेस-वे परियोजना 12 जिलों की 30 तहसीलों से होकर गुजरेगी
मेरठ से शुरु होकर हापुड़, बुलन्दशहर, अमरोहा, सम्भल, बंदायूं, शाहजहांपुर, हरदोई, उन्नाव, रायबरेली, प्रतापगढ़ पर होते हुए प्रयागराज पर समाप्त होगा।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned