योगी सरकार ने मायावती के इस खास सिपाही पर लिया बड़ा निर्णय

दो अप्रैल से है जेल में, पुलिस ने उपद्रव का मुख्य आरोपी बनाया था

By: sanjay sharma

Published: 20 May 2018, 10:06 AM IST

मेरठ। दो अप्रैल को मेरठ में हुए उपद्रव में बसपा के पूर्व विधायक आैर मायावती के खास सिपाही योगेश वर्मा पर योगी सरकार ने बड़ा निर्णय लिया है। इस निर्णय को लेने में यूपी सरकार ने करीब दो सप्ताह में निर्णय लिया। दो अप्रैल से जेल में बंद योगेश को अब सरकार के सामने इस निर्णय के विरोध में अपना पक्ष रखना होगा। इसके बाद एडवाइजरी कमेटी भी निर्णय लेगी। अगर कमेटी ने सहमति जतार्इ तो मायावती के खास सिपाही को करीब एक साल में जेल में रहना पड़ेगा।

यह भी पढ़ेंः एक दिन पहले ही करवायी थी लव मैरिज, इस पर होने वाली पंचायत के लिए जाते समय ही...

यह भी पढ़ेंः योगी राज में नहीं सुन रही थानों की पुलिस, एसएसपी आफिस पर यह करना पड़ रहा फरियादियों को

रासुका पर शासन ने मुहर लगार्इ

जिलाधिकारी अनिल ढींगरा ने योगेश वर्मा पर रासुका तामील कराकर पत्रावली शासन को भेज दी थी। इसके करीब दो सप्ताह बाद शासन ने अवलोकन के बाद योगेश पर रासुका लगाने की मंजूरी दे दी। डेढ़ महीने से जेल में बंद बसपा के पूर्व विधायक को जिला आैर पुलिस प्रशासन ने मेरठ में दो अप्रैल को हुए उपद्रव का दोषी मानते हुए जेल में डाल दिया था। साथ ही 165 आरोपियों को भी जेल भेजा था। इसके बाद जिला प्रशासन ने योगेश वर्मा पर रासुका की कार्रवार्इ शुरू कर दी थी। हालांकि इसी दौरान योेगेश की पत्नी सुनीता वर्मा ने एससी-एसटी आयोग में इसकी शिकायत की थी। आयोग ने यूपी के डीजीपी समेत कर्इ पुलिस अफसरों को तलब भी किया था, लेकिन इसके बाद जिलाधिकारी ने रासुका की कार्रवार्इ शुरू कर दी आैर योगेश वर्मा पर रासुका तामील कराकर पत्रावली शासन को भेज दी थी। शासन ने इस पर अपनी मुहर लगा दी।

यह भी पढ़ेंः पुलिस की मौजूदगी में हुर्इ पंचायत, गैंगरेप मामले में 30 हजार में समझौते का दबाव

यह भी पढ़ेंः यहां किसानों का लगातार चार साल से चल रहा प्रदर्शन, 22 की हो चुकी मौत, फिर भी इनकी कोर्इ नहीं सुन रहा

Show More
sanjay sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned