मेडिकल परिसर में प्राइवेट एंबुलेस देख गुस्से से लाल हुए योगी के मंत्री

मंत्री के निर्देश पर एक्शन में आए एसएसपी ने सीज की दर्जनों एंबुलेंस प्राइवेट अस्पताल में भर्ती के नाम पर लेते हैं मोटा कमीशन पिछले कई सालों से मेडिकल कॉलेज परिसर के भीतर खड़ी होती हैं एबुलेंस

By: shivmani tyagi

Updated: 10 Apr 2021, 08:58 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मेरठ. प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ( BJP MLA Suresh Khanna ) मेरठ के मेडिकल कॉलेज में कोरोना वायरस से निपटने के लिए बनाई गई सुविधाओं का जायजा लेने के लिए पहुंचे थे। यहां उन्हाेंने कॉलेज परिसर के भीतर पहुंचते ही लाइन से खड़ी दर्जनों प्राइवेट एंबुलेंस का देखा त उनका पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया।

यह भी पढ़ें: संक्रमण के खतरे के बीच बच्चों काे बुला रहे स्कूल

गुस्साए मंत्री ने तुरंत डीएम और एसएसपी से इन अवैध एबुलेंस के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही। मंत्री के लाल-पीले तेवर देख एक्शन में आए एसएसपी ने तुरंत कार्रवाई करते हुए दो दर्जन से अधिक एंबुलेंस को सीज करवा दिया। पुलिस के एक्शन में आते ही एंबुलेंस संचालकर अपने वाहनों को वहीं छोड़कर भाग खड़े हुए। पुलिस ने दो दर्जन से अधिक एंबुलेंस को मेडिकल थाने में खड़ी कर सीज कर दिया।

यह भी पढ़ें: कोरोना से ख़ौफ़ज़दा लोग, यूपी में 48 और लखनऊ में 23 कोरोनावायरस संक्रमितों की मौत

मेडिकल कॉलेज में कोरोना वायरस से संबंधित की गई व्यवस्था का निरीक्षण मंत्री सुरेश खन्ना ने किया। इस दौरान उन्होंने मेडिकल कॉलेज में अनावश्यक लोगों की आवाजाही पर नाराजगी जताई। मेडिकल कॉलेज प्रबंधन और अन्य अधिकारियों को उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस और इलाज के दौरान विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। ऐसे में अनावश्यक भीड़भाड़ को रोका जाए। मेडिकल कॉलेज परिसर को पहले सुरक्षित बनाया जाए। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य और अन्य अधिकारियों को सख्त चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी पहले से ज्यादा अब दोबारा लोगों में बढ़ रहा है जिसको लेकर मेरठ के हालात बहुत नाजुक बन चुके हैं। और मेरठ में लगातार आंकड़ा भी बढ़ रहा। कोरोना महामारी से छुटकारा पाने के लिए ज्यादा से ज्यादा सोशल डिस्टेंसिंग का प्रयोग करें और मास्क अवश्य लगाएं।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned