12वीं के छात्र ने सफाईकर्मी के लिए बनाई कचरा उठाने की एक अनोखी मशीन, जिससे दो घंटे में खत्म हो सकता है दिन भर का काम

जय प्रकाश ने अपने पॉकेट खर्च से एक पुरानी साइकिल खरीदकर दो साल में सफाईकर्मियों के लिए इस मशीन का निर्माण किया है

By: sarveshwari Mishra

Published: 17 Apr 2019, 11:35 AM IST

मिर्ज़ापुर. कहा जाता है अगर प्रतिभा और हुनर के साथ इंसान का हौसला बुलंद हो तो उसे मुकाम हासिल करने से कोई नहीं रोक सकता। जिसे सच कर दिखाया है यूपी के मिर्जापुर में रहने वाले 12वीं के एक छात्र ने। जय प्रकाश पिछड़े परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उन्होंने सफाईकर्मियों के लिए एक ऐसी अनोखी मशीन बनाई है जिससे वह अपना दिनभर का काम मात्र दो घंटों में खत्म कर सकते है। जय प्रकाश ने अपने पॉकेट खर्च से एक पुरानी साइकिल खरीदकर दो साल में सफाईकर्मियों के लिए इस मशीन का निर्माण किया है।

 

बतादें कि जय प्रकाश मिर्जापुर सिटी ब्लॉक के मवैया गांव का रहने वाला है। इसके पिता रामबृक्ष बिंद बिजली मिस्त्री हैं। यह शहर के गुरुनानक इंटर कॉलेज के 12वीं का छात्र है। जय प्रकाश ने पुरानी साइकिल को वेल्डिंग कर कूड़ा फेंकने वाली मशीन बनाई है। खास बात तो यह है कि इसे चलाने के लिये किसी तरह के खर्चे की जरूरत नहीं पड़ेगी। यह खुद से चलाया जा सकता है। जय प्रकाश का कहना है कि उसे स्कूल में प्रोजेक्ट बनाने के लिए मिला था। वह दो साल की मेहनत के बाद यह कूड़ा उठाने वाली मशीन को तैयार कर पाया है। जिससे जो सफाई करने वाले मजदूर दिन भर काम करते है उसे वह सिर्फ दो घंटे में पूरा कर सकते है।


जय प्रकाश का कहना है कि इस प्रोजेक्ट में उनके टीचर का भी महत्वपूर्ण योगदान रहा है। हालांकि शुरुआत में उन्हें इस उपकरण को बनाने के लिए काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। जय प्रकाश बताते है कि पुरानी साइकिल से उन्होंने अपने प्रयोग की शुरुआत की थी। फिर वेल्डिंग करवाने से लेकर उपकरण में लगने वाले पुर्जे को इकठ्ठा करने में समय लगा।

 

clean garbage machine
IMAGE CREDIT: NET

फिलहाल वह हाल ही में बैंगलोर में प्रदर्शनी से वापस लौटे है। जहां उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी कार्यक्रम में शामिल हुए थे। अब उन्हें वाराणसी बीएचयू में बुलाया गया है। वही जय प्रकाश के पिता रामबृक्ष बिंद का कहना है कि उन्हें बेटे पर गर्व है कि उसने समाज के लिए कुछ अच्छा काम किया है। वह आगे बढे और अपना आम रोशन करे। फिलहाल जय प्रकाश की सफालता ने तो यह साबित कर दिया है कि मेहनत से सब कुछ हासिल किया जा सकता है।

By- Suresh Singh

sarveshwari Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned