साहब मेरी पिटायी करके देख लीजिये मैं जिंदा हूं, सरकारी रिकॉर्ड में मर चुके शख्स की गुहार

UP के मिर्जापुर में जिंदा लोगों को सरकारी कागजात में घोषित कर दिया मरा हुआ, बंद हो गई जीने का सहारा बनी पेंशन।

मिर्ज़ापुर. साहब मैं जिन्दा हूं, आपसे बात कर रहा हूं। आप चाहें तो मुझे छू कर देख सकते हैं। मुझे मार लीजिये अपनी संतुष्टि के लिये जैसे भी चेक करना चाहें कर लें। मिर्जापुर जिले के राजगढ़ अन्तर्गत खुटारी गांव निवासी मनधारी, भुलई और लालू रोज हाकिमों के सामने जाते हैं और यही बात दोहराते हैं। जिन्दा होते हुए भी वह अपने जिंदा होने का सबूत देते हैं पर आंखों से देखने के बाद भी उनकी बात पर सरकारी दफ्तार यकीन नहीं करता। वजह सरकारी कागजों में किसी की कलम ने यह लिख दिया है कि ये लोग मर चुके हैं। तब से सरकारी दस्तावेज में यह मान लिया गया कि ये जिंदा नहीं मर चुके हैं और इनके जीने का सहारा इनकी पेंशन भी रोक दी गयी है। अब यह खुद को जिंदा साबित करने और अपनी पेंशन दोबारा पाने के लिये दफ्तरों के चक्कर लगा रहे हैं और अधिकारियों को यकीन दिलाने की कोशिश कर रहे हैं कि वह जिंदा हैं।

 

 

विकास खंड राजगढ़ क्षेत्र के खुटारी गांव निवासी मनधारी पुत्र बंजार 60 वर्ष ,खेलाड़ी पुत्र भुलई 72वर्ष व लालू पुत्र नान्हू 85 वर्ष ने शिकायत पत्र देते हुए बताया कि एक दशक पूर्व से उन्हें बृद्धा पेंशन मिल रही थी। आरोप है कि 2016-17 में स्थानीय अधिकारियों कि मिली भगत से उन्हें मृतक दिखाकर रिपोर्ट समाज कल्याण आफिस में भेज दी गयी। मृतक की रिपोर्ट के चलते एक वर्ष से लाभार्थियों की पेंशन बैंक में आना बंद हो गयी। पेंशन बंद होने पर जब समाज कल्याण आफिस से पता किया तो पता चला कि वहां तो कागजों में ये लोग मर चुके हैं।


पेंशन लाभार्थी योजना से बंचित होने पर ये लोग बार-बार ब्लॉक पर अधिकारियों का चक्कर लगाते रहे लेकिन समस्या का समाधान अभी तक नहीं हो पाया है। ब्लाक अधिकारी आश्वासन ही देते रहे। सम्पूर्ण समाधान दिवस पर मामला प्रकाश में आने के बाद मुख्य विकास अधिकारी ने कुछ गंभीरता दिखाते हुए मामले की जांच के लिये लिख दिया। इसके बाद बीडीओ राजगढ़ के निर्देश पर एडीओ समाज कल्याण अशोक सिंह अब इस बात की जांच कर रहे हैं कि जब ये लोग असल में जिंदा हैं तो सरकारी रिकॉर्ड में मर कैसे गएं।


वहीं मामले पर खंड विकास अधिकारी राजगढ़ रामचंद्रराम ने बताया कि जांच की जा रही है। रिपोर्ट आने पर जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ कार्यवाही के लिये जिला प्रशासन के पास रिपोर्ट भेजी जाएगी।
By Suresh Singh

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned