एंबुलेंस का मेंटनेंस करने वाले दुकानदार पर स्वास्थ्य विभाग का 22 लाख का बकाया

विभाग की लापरवाही का आलम यह है कि दुकान पर आधा दर्जन के करीब खराब हो चुकी एम्बुलेंस खड़ी धूल फांक रही है।

मिर्जापुर. जिले में स्वास्थ्य सेवा के लिए चल रही 108 और 102 एम्बुलेंस की देखभाल और मेंटनेंस करने वाले दुकानदार का स्वास्थ्य विभाग पर लाखों का बकाया होने के बाद भुगतान नहीं किया जा रहा है। विभाग की लापरवाही का आलम यह है कि दुकान पर आधा दर्जन के करीब खराब हो चुकी एम्बुलेंस खड़ी धूल फांक रही है। दुकानदार अपने बकाये के भुगतान के चक्कर काट रहा है, मगर उसका अब तक भुगतान नहीं किया गया।

शहर के बरौधा कछार में स्वास्थ्य विभाग की 108 और 102 एम्बुलेंस के खराब होने के बाद मेंटनेंस का कार्य किया जाता है, अभी भी इस दुकान के सामने लावारिस खड़ी आधा दर्जन एम्बुलेंस धूल फांक रही है, जिसकी सुध लेने वाला कोई नही है। दुकानदार का विभाग पर लगभग 22 लाख रुपये बकाया है।हालात यह है कि घर में शादी होने के बाद भी तमाम भागदौड़ के बाद भी अभी तक पैसे का भुगतान विभाग से नहीं हो पाया है।

दुकानदार दीपक तिवारी का कहना है कि मेरा मेंटेनेंस का 22 लाख रुपये के करीब बकाया है। ज्यादा भागदौड़ करने पर अधिकारी दो से ढाई लाख भेज देते हैं, फिर शांत हो जाते हैं जबकि महीनों से लाखों का बकाया चल रहा है। हालांकि सीएमओ ओपी तिवारी का कहना है कि जिले में इस समय कुल 63 एम्बुलेंस संचालित की जा रही है, कुछ खराब एम्बुलेंस दुकानदार के यहां पर खड़ी है। भुगतान की समस्या पर उन्होंने कहा कि जीवीएल कंपनी इसका संचालन करता है, स्वास्थ्य विभाग का काम सिर्फ मॉनीटिरिंग की है। इसलिए मरम्मत के लिए जो भी भुगतान होगा वह सीधे लखनऊ से किया जाता है।

BY- SURESH SINGH

Akhilesh Tripathi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned