जर्जर स्कूल में पढ़ने को मजबूर बच्चे, तेज बारिश होने पर हो जाती है छुट्टी

  जर्जर स्कूल में पढ़ने को मजबूर बच्चे, तेज बारिश होने पर हो जाती है छुट्टी
Nand Gopal Primary school

नंद गोपाल बेसिक प्राइमरी स्कूल में कक्षा एक से छह तक की होती है पढ़ाई

मिर्जापुर. प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था की हालत में सुधार होने के बजाय बिगड़ती जा रही है, हालात यह है कि जर्जर स्कूलों के कारण बरसात के मौसम में तेज और कम बारिश बच्चों के पढ़ाई का समय तय कर रहे हैं। प्राइमरी स्कूल के बच्चे जर्जर और छतों से टपकते पानी में पढ़ने को मजबूर है, स्कूल का भवन खंडहर हो चुका है तो बरसात में छतों से पानी टपकता रहता है। अगर पढ़ाई के दौरान अगर बरसात कुछ ज्यादा तेज हुई तो उस दिन स्कूल की  छुट्टी कर बच्चों को घर भेज दिया जाता है।


यह भी पढ़ें:
UP तो दूर की बात पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र के गड्ढे नहीं भर पा रही सीएम योगी सरकार


गणेशगंज के नंद गोपाल बेसिक प्राइमरी स्कूल में कक्षा एक से छह तक की पढ़ाई होती है, यहां कुल 47 बच्चे पढ़ते है इन को पढ़ाने के लिए 2 टीचरों की नियुक्ति की गई है, मगर इस स्कूल में पढ़ने वाले बच्चे और टीचर बरसात के मौसम में हमेशा ही डर के साये में रहते है। एक तरफ जहां स्कूल खंडहरनुमा है, वहीं स्कूल के कैंपस में गाय और बैल सहित कई जानवरों ने शरण ले रखा है। पुराने भवन में बने इस दो मंज़िल स्कूल में बच्चे पढ़ते हैं तो बारिश में छत से पानी टपकता रहता है।




स्कूल में कक्षा पांच में पढ़ने वाले धर्मेद्र और तीन की छात्र जानकी का कहना है कि वह लोग चाहते है कि स्कूल को कही दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया जाय। वहीं स्कूल की प्रधानाध्यापिका नगीना बानो का कहना है कि यहां हमेशा भय बना रहता है, उन्होंने इसके लिए शिक्षा अधिकारियों को कई बार लिखा मगर स्कूल शिफ्ट नहीं हो पाया। साथ ही उनको यह उन्हें आदेश मिला है कि बारिश तेज होने पर स्कूल बंद कर दिया जाय। स्कूल की जर्जर हालत पर जब जिला अधिकारी विमल दूबे से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि जल्द ही स्कूल को दूसरी जगह शिफ्ट कर दिया जाएगा।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned