नक्सल प्रभावित इलाके के मरीजों को मिली बड़ी राहत, BHU के साउथ कैम्पस में स्वास्थ्य केंद्र का लोकार्पण

Akhilesh Kumar Tripathi

Publish: Sep, 09 2018 11:00:01 PM (IST)

Mirzapur, Uttar Pradesh, India

Minister Anu priya patel

1/2

केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल

मिर्जापुर. जिले के नक्सल प्रभावित इलाके के मरीजों को अब इलाज के लिए इलाहाबाद अथवा वाराणसी स्थित बीएचयू अस्पताल जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अब जिले में ही मरीजों को इलाज की सुविधा मिलेगी। रविवार को बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय के मिर्जापुर स्थित साउथ कैम्पस में अस्पताल का लोकार्पण केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने किया। लोकार्पण के बाद केंद्रीय मंत्री ने भी अपने दांतों की जांच कराई।

सुविधाओं का लोकार्पण करते हुए केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल ने बताया कि साउथ कैम्पस स्थित इस स्वास्थ्य केंद्र में 24 घंटे इलाज की सुविधा उपलब्ध रहेगी। फिलहाल यहां अभी दस बेड की व्यवस्था की गई है। इसमें छह बेड मेडिसिन एक बेड डेंटिस्ट, एक ऑपरेशन थिएटर और दो बेड नेचुरोपैथी के इलाज से संबंधित होंगे। उन्होंने कहा कि मिर्जापुर में इस सेवा के शुरू होने से इलाके के मरीजों को इलाज के लिए अन्य बड़े शहरों में नहीं जाना पड़ेगा।

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि पहाड़ी इलाका होने के कारण इस इलाके में जहरीले जन्तुओं का खतरा हमेशा बना रहता है।इसलिए यहां पर बिच्छू सांप अथवा कुत्ता के काटने का इलाज भी होगा। यहां पर मरीजों को इंजेक्शन भी उपलब्ध होगा। बता दें कि बीएचयू का साउथ कैम्पस बरकछा में निर्मित किया गया है, यहां पर बीएचयू की कक्षा भी चलती है।कैम्पस के अंदर छात्र-छात्राओं के हॉस्टल भी मौजूद है। बीमार होने इन छात्रों को 8 किलोमीटर दूर जिला अस्पताल लाना पड़ता था।

परेशानी को देखते हुए पिछले दिनों केंद्रीय मंत्री ने बीएचयू के कुलपति प्रो. राकेश भटनागर को पत्र लिखकर बरकछा स्थित बीएचयू के साउथ कैम्पस में ओपीडी सेवाएं शुरू करने का अनुरोध भी किया था। फिलहाल कैम्पस में स्वास्थ्य सुविधाओं के शुरू होने के बाद छात्रों के अलावा मिर्जापुर और सोनभद्र के मरीजों को भी बेहतर चिकित्सा सुविधा मिलेगी। लोकार्पण के अवसर पर समारोह की अध्यक्षता बीएचयू के कुलपति प्रो.राकेश भटनागर ने की। इस मौके पर दक्षिणी परिसर की आचार्य प्रभारी प्रो. इंचार्ज प्रो. श्रीमती रमादेवी निम्मानपल्ली भी उपस्थित थीं।

 

BY- SURESH SINGH

Ad Block is Banned