Childrens day प्राथमिक स्कूल के बच्चों को नहीं बता पाये कौन थे पंडित नेहरू

पत्रिका की टीम ने जब इस बारे में एक पड़ताल की तो जो सच सामने आया वह बहुत ही हैरान करने वाला रहा

By: Ashish Shukla

Published: 14 Nov 2017, 09:51 PM IST

मिर्ज़ापुर. चाचा नेहरू का जन्म दिन मंगलवार को देशभर में धूमधान से मनया गया।
पर जिले के प्राइमरी स्कूलों में बाल दिवस सिर्फ एक रश्म अदायगी के तौर पर मनाते हुए देखा गया। बाल दिवस के मौके पर पत्रिका की टीम ने जब इस बारे में एक पड़ताल की तो जो सच सामने आया वह बहुत ही हैरान करने वाला रहा।

 

जब स्कूल में पढ़ने वाले बच्चो से यह पूछा गया कि पं. नेहरू कौन थे और बाल दिवस क्यो मनाया जाता है। इसके जवाब में उनकी जानकारी शून्य है।

जी हां जिले के स्वामी दयानद बेसिक प्राथमिक पाठशाला विसुंधर प्राथमिक विद्यालय में 105 छात्र है इन्हें पढ़ाने के लिए 2 अध्यापको की नियुक्ति की गई है। मंगलवार को

स्कूल खुलते ही पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के फोटो पर मार्ल्यापण कर बाल दिवस मनाया गया। कक्षा पाँच की छात्रा अर्चना से पत्रिका की टीम ने सवाल पूछा कि बालदिवस क्या है। वह पहले प्रयास करती नजर आई इसके बाद सीधे जबाब दिया पता नहीं।

 

एक अन्य छात्र करण से जब पंडित नेहरू के बारे में पूछा गया तो उसका कहना था कि वह नेहरू के बारे मे नही जानता है। हालांकि बाल दिवस पर कक्षा 5 के छात्र सोनू कुछ हद तक बताने में कामयाब रहा।

उसका कहना था कि जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन है। मंगलवार को यानि बाल दिवस के दिन स्कूल के अधिकांश बच्चे बाल दिवस और पंडित नेहरू के बारे में बताने में नाकाम रहे।

 

वहीं जब स्कूल के अध्यापक प्रदीप से बच्चों के अधूरे ज्ञान पर सवाल किया गया तो उन्होंने अपनी सफाई देते हुए कहा कि स्कूल में कुछ बच्चे तेज हैं और कुछ कमजोर।
बतादें कि हर वर्ष सरकार इन सरकारी प्राइमरी स्कूलों में शिक्षा के नाम पर करोङो खर्च करती है।मगर स्कूलो में शिक्षा के स्तर में सुधार के बजाय लगातार गिरावट आती जा रही है।

Show More
Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned