किराने की दुकान पर एसडीएम ने मारा छापा, हड़कंप

किराने की दुकान पर एसडीएम ने मारा छापा, हड़कंप

Sunil Yadav | Publish: Sep, 09 2018 10:23:56 AM (IST) Mirzapur, Uttar Pradesh, India

पुलिस मामले की जांच में जुटी

मिर्ज़ापुर. अदलहाट थानान्तर्गत ग्राम पुरुषोत्तमपुर परषोधा बाजार स्थित किराना के दुकान पर एसडीएम चुनार ने शनिवार प्रातः नौ बजे छापा मारकर बाइस बोरी पुष्टाहार बरामद किया। इसके बाद कार्रवाई करते हुए एसडीएम ने किराना दुकान मालिक को पुलिस को सुपुर्द कर दिया।


प्राप्त जानकारी के अनुसार एसडीएम चुनार सुरेंद्रप्रताप सिंह को सूत्रों से जानकारी मिली कि परषोधा बाजार स्थित एक किराना दुकान में पुष्टाहार रखा है। जानकारी मिलने के बाद एसडीएम ने जब जांच किया तो किराना दुकान से बाइस बोरी पुष्टाहार बरामद हुआ। इसके बाद उन्होंने पुष्टाहार समेत किराना दुकान मालिक महेशपाल को नारायनपुर पुलिस चौकी इंचार्ज ज्ञानेंद्र सिंह को सुपर्द कर दिया और मामले की जानकारी डीपीओ को दिया। साथ ही सीडीपीओ नारायनपुर अरुण कुमार को मौके पर पहुँचकर जांच के बाद आवश्यक कार्यवाही करने का निर्देश दिया।


निर्देश मिलने पर सीडीपीओ अरुण कुमार ने नारायनपुर पुलिस चौकी पर पहुंचकर जाँच पड़ताल किया तो पता चला कि पुष्टाहार की बोरी पर तहसील लालगंज मिर्ज़ापुर का पता लिखा है। लालगंज में बाल पुष्टाहार वितरण करने के लिए आंगनबाड़ी को दिया गया था। डीपीओ के निर्देश पर लालगंज की सीडीपीओ श्रीमती प्रेमलता भी नारायनपुर आकर पुष्टाहार की बोरी का जाँच पड़ताल किया।

दुकानदार महेशपाल ने पूछताछ में बताया कि खरीद किये गये गेहूं - चावल की बोरी के साथ केशवपुर जलालपुरमाफ़ी निवासी लवकुश ने अपने मालवाहन से पुष्टाहार की बोरी भी लेकर आया था । बाद में ले जाने को कह रख दिया। पूछताछ के बाद सीडीपीओ लालगंज प्रेमलता ने दुकानदार महेशपाल के खिलाफ नाम नामजद तहरीर दिया। वहीं तहरीर मिलने के बाद पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई।


गौरतलब है कि पुष्टाहार की आपूर्ति आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों को गर्भवती महिलाओं, छः वर्ष तक के बच्चों व स्कूल न जाने वाली ग्यारह से चौदह वर्ष की किशोरियो को वितरण के लिए सीडीपीओ व आपूर्तिकर्ता के संयुक्त उपस्थिति में दिया जाता है। एक बोरी में एक किलो के बीस पैकेट होते है। वहीं लोगों की माने तो आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों द्वारा पुष्टाहार का वितरण करने के बजाय, बेच दिया जाता है। पशुपालक इसका इस्तेमाल पशुओं को खिलाने में करते है।

By- सुरेश सिंह

Ad Block is Banned