शिवसेना नेता का बड़ा बयान, इस दिन तय होगी राम मंदिर के निर्माण की तारीख, कोर्ट को निर्णय लेने का अधिकार नहीं

शिवसेना नेता का बड़ा बयान, इस दिन तय होगी राम मंदिर के निर्माण की तारीख, कोर्ट को निर्णय लेने का अधिकार नहीं

Akhilesh Kumar Tripathi | Publish: Nov, 10 2018 07:37:22 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 07:37:23 PM (IST) Mirzapur, Uttar Pradesh, India

कहा- राम जन्मभूमि विवाद के मसले पर भाजपा कर रही है जुमलेबाजी

मिर्जापुर. राम जन्मभूमि विवाद पर शिवसेना ने विवादित बयान दिया है। शिवसेना के प्रदेश अध्यक्ष अनिल सिंह ने कहा कि आस्था के निर्णय में कोर्ट का कोई अधिकार नहीं है, यह निर्णय लेने का अधिकार सिर्फ हिंदू समाज एवं देश के साधु संतों एवं शिवसैनिकों का है।

अनिल सिंह ने भाजपा सरकार पर सवालिया निशान लगाते हुए कहा कि राम जन्मभूमि विवाद के मसले पर भाजपा जुमलेबाजी की राजनीति कर भारतीय सनातन धर्म के ऊपर कुठाराघात किया जा रहा है। वहीं मंदिर निर्माण में ही रहे देर का कारण भारतीय जनता पार्टी को बताते हुए कहा कि भाजपा को राम जन्मभूमि निर्माण के मंदिर की तिथि को आम जनमानस में नहीं बताते हुए सिर्फ जुमलेबाजों की सरकार बताया।

उन्होंने कहा कि शिव सेना आगामी देशव्यापी आंदोलन अयोध्या चलो 25 नवंबर को लगभग देश और प्रदेश से लाखों की संख्या में शिव सैनिक पहुंचकर राम जन्मभूमि शिलान्यास मंदिर निर्माण की तिथि तय कर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा हमारे होने वाले कार्यक्रम को देख आने वाले समय में अयोध्या चलो आंदोलन के रूप में देशव्यापी आंदोलन करने जा रही है, लेकिन हमारे राष्ट्रीय प्रमुख उद्धव ठाकरे अयोध्या पहुंचकर लाखों शिव सैनिकों के साथ 25 नवंबर को अयोध्या के लिए कूच करेंगे।

राम जन्मभूमि मसले पर शिव सेना के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा न्यायपालिका का अधिकार आस्था पर निर्णय लेने का लेने का नहीं बल्कि हिंदू समाज और देश के साधु संतों का होना चाहिए। वही महाराष्ट्र में उत्तर भारतीयों के उत्पीड़न पर उन्होंने कहा कि पूरे महाराष्ट्र में शिवसैनिक किसी भी पीड़ित व्यक्ति का जमीन कब्जा करने पर न्याय संगत कार्रवाई करने में कोई कोताही नहीं छोड़ते हैं।

 

BY- SURESH SINGH

Ad Block is Banned