जिस पुल का लोकार्पण करने आ रहे हैं पीएम मोदी, उसका सपाईयों ने पहले ही किया लोकार्पण, कहा अखिलेश ने बनवाया था

Ashish Kumar Shukla | Publish: Jul, 13 2018 06:39:09 PM (IST) Mirzapur, Uttar Pradesh, India

इतना ही नहीं सपाईयों ने अखिलेश यादव जिंदाबाद के नारे भी जमकर लगाये

मिर्ज़ापुर. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कि 15 जुलाई की होने वाले रैली से पहले ही सपाइयों ने चुनार पुल का लोकार्पण कर दिया। दर्जनो कि संख्या में पहुंचे सपाइयों ने पुल पर पहुंचकर जैसे ही लोकार्पण किया। प्रशासन में हड़कंप मच गया। इतना ही नहीं सपाईयों ने अखिलेश यादव जिंदाबाद के नारे भी जमकर लगाये।

बतादें कि पिछले दस वर्षों से निर्माणाधीन चुनार पुल के पूर्ण होने के बाद संभावना थी कि 15 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जनपद आगमन पर इस पुल का भी लोकार्पण कर सकते हैं। मगर इससे पहले ही शुक्रवार के सपा जिलाध्यक्ष आशीष यादव और पूर्व विधायक जगतम्बा पटेल के नेतृत्व में दर्जनो कि संख्या में सपा कार्यकता वहां पर पहुंच गए। पुल पर बकायदे फीता काटकर उसका लोकार्पण किया।

उस दौरान सपा कार्यकर्ताओं ने समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के जम कर नारे लगाए। वहीं पुल के लोकार्पण कि जानकारी मिलते ही पुलिस प्रसाशन में हड़कंप मच गया। पुल के लोकार्पण पर जब सपा जिला अध्यक्ष आशीष यादव से पत्रिका ने सवाल किया तो उनका कहना था कि शुक्रवार को सुबह 10.48 पर पुल के लोकार्पण का मुहुर्त था। यह पुल सपा कि वजह से बना है इसलिए हम सभी ने इसका लोकार्पण किया है। बतादें कि इस पुल का शिलान्यास सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव ने 2006 में मुख्यमंत्री रहते किया था।
जिसके बाद विधानसभा चुनाव में सपा की हार और बसपा कि जीत के बाद पांच साल तक पुल के निर्माण पर अंकुश लग गया। 2012 में दोबारा सपा सरकार आने के बाद भी काम मे अपेक्षित तेजी नहीं आ पाई पांच वर्ष बीत जाने के बाद भी सपा के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने कार्यकाल में पुल का निर्माण पूरा नहीं करवा सके।

भाजपा सरकार बनते ही पुल के निर्माण कार्य मे तेजी आयी। पुल बन कर तैयार हुआ। पहले इसके नाम को लेकर विवाद हुआ विवाद का समाधान लेने के बाद भी भाजपा और सपा के बीच पुल के निर्माण का श्रेय लेने कि रस्साकसी खत्म नही हुई। इसी का परिणाम है कि शुक्रवार को सपा नेताओं ने पीएम के लोकार्पण व शिलान्यास कार्यक्रम से पहले ही पुल का लोकार्पण कर दिया। फिलहाल पुल के लोकार्पण से सबसे ज्यादा फजीहत जिले के खुफिया विभाग और पुलिस कि हुई। उन्हें सपा के इस कार्यक्रम कि भनक तक नहीं लग पाई।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned