लापरवाही: किसानों से खरीदा गया हजारों क्विंटल गेहूं बरसात में भींगा

 लापरवाही: किसानों से खरीदा गया हजारों क्विंटल गेहूं बरसात में भींगा
Wheat Crop

जल्द नहीं निकला समाधान, तो सड़ सकता है सैकड़ों क्विंटल गेहूं

मिर्जापुर. विभागीय लापरवाही के कारण बारिश में किसानों का कई क्विंटल गेहूं बर्बादी के कगार पर पहुंच सकता है, मगर अधिकारियों तक इसकी भनक तक नहीं लगी है। मंगलवार को हुई बारिश के बाद गेहूं क्रय केंद्र के चारों ओर खुले आसमान में रखा गेहूं का बोरा पानी में डूबा है। यहां तक की पोखरे के भीट पर भी अनाज की फटी बोरी बिखरी हुई है, इसका जल्द उपाय निकाला नहीं गया तो सैकड़ों क्विंटल गेहूं सड़ सकता है।


अदलहाट क्षेत्र के सहकारी साधन समिति कोलना सरकारी गेहूं क्रय केंद्र में मंगलवार को सुबह से हो रही झमाझम बारिश में किसानों से खरीदे गये लगभग 3200 सौ क्विंटल गेहूं एवं किसानों द्वारा क्रय केंद्र पर बेचने के लिए लाये गये लगभग 1000 हजार क्विंटल गेहूं बोरे के अभाव में बारिश से भीग रहा है। 25 मई को क्षेत्रीय प्रबंधक पीसीएफ विंध्याचल मंडल ने क्रय केंद्र निरीक्षण के दौरान किसानों से खरीदी गयी गेहूं को जिला मुख्यालय पर भेजवाने की बात कही थी। क्रय केंद्र पर 25 मई से ही बोरे उपलब्ध न होने और किसानों से खरीदे गये गेहूं को मुख्यालय तक विभाग द्वारा नहीं पहुचाने से क्रय केंद्र कर्मचारियों ने किसानों से गेहूं खरीदना बंद कर दिया है । खरीदे गये अनाज को बारिश से बचाने के लिए कर्मचारियों ने काफी प्रयास किया लेकिन वे सफल नहीं हुए।


यह भी पढ़ें: योगी राज में किसानों का बुरा हाल, हुआ करोड़ों का नुकसान


सरकार ने 15 जून तक कोलना गेहूं क्रय केंद्र पर किसानों के 15 हजार क्विंटल गेहूं खरीदने का लक्ष्य रखा है, लेकिन अभी तक मात्र 8 हजार क्विंटल गेहूं ही किसानों से खरीदा गया है, बोरे के अभाव में किसान परेशान हैं। जो किसान एक सप्ताह से लगभग 1 हजार  क्विंटल गेहूं क्रय केंद्र पर बेचने के लिए लाये हैं, वह भी पानी में डूबा है। गेहूं की खरीदारी न होने किसानों में काफी मायूसी है।






क्रय केंद्र प्रभारी देवेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि किसानों से खरीदे गये गेहूं को मुख्यालय पर स्थानांतरित नही होने से गेहूं को खुले में रखना पड़ा। 25 जून से ही केंद्र को गेहूं के बोरे उपलब्ध नहीं हुए जिससे खरीदारी बंद है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned