खनन ने छीन ली तीन जिंदगियां, परिवार की खुशियों को लगा ग्रहण, माइनिंग ब्लास्ट से बनी झील में डूबे 3 भाई-बहन

मिर्ज़ापुर के अहरौरा थाना क्षेत्र के चिरईया इलाके में शनिवार सुबह खनन के दौरान पहाड़ी में गढ्ढे में भरे पानी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूब गए।

By: रफतउद्दीन फरीद

Published: 18 Jul 2020, 10:22 PM IST

Mirzapur, Mirzapur, Uttar Pradesh, India

मिर्जापुर. अहरौरा थाना क्षेत्र के चिरैया पहाड़ी पर पत्थर की खदान से बने गढ्ढे में नहाते समय एक ही परिवार के तीन बच्चे डूब गए। तीनों आपस मे भाई और बहन थे। पुलिस ने गोताखोरों के जरिये तीनों शवों को बरामद कर लिया है। बताया जा रहा है कि यह तीनों कल दोपहर से ही लापता थे। घटना को लेकर ग्रामीणों में काफी आक्रोश देखने को मिला। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि पहाड़ों पर बिना मानक के ब्लास्टिंग होती है। जिससे पहाड़ों पर बड़े-बड़े गड्डे बन गये हैं।

अहरौरा थाना क्षेत्र के चिरईया इलाके में शनिवार सुबह खनन के दौरान पहाड़ी में गढ्ढे में भरे पानी में नहाने के दौरान तीन बच्चे डूब गए। चकजाता गांव निवासी प्रकाश कोल की दो पुत्री (12) राधिका, खुशबू (5) और पुत्र काजू (6) खनन के गढ्ढे में भरे पानी में नहाने गए थे। नहाते समय तीनों बच्चों के डूब जाने से मौत हो गई। ग्रामीणों ने बताया कि लालपुर अधवार गांव चिरइया मौजा में मानकों के विपरीत हो रहे खनन के चलते बड़े-बड़े गढ्ढे बन गए हैं। जहां बारिश होने के बाद पहाड़ी पर ये तालाब में बदल गए हैं। मिर्जापुर के जिलाधिकारी सुशील पटेल ने बताया की जहां पर यह घटना हुई है वो खनन क्षेत्र वैध है। डीएम के मुताबिक 2022 तक खनन करने की परमिशन भी है। उन्होंने बताया कि पत्थर से गढ्ढे बन गए थे, जिसमें बारिश का पानी जमा हो गया था। पानी में डूबने से यह हादसा हुआ है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned