2 साल में खत्म होगी 42 लाख लोगों की 70 साल से चली आ रही पानी की तलाश

  • पीएम नरेन्द्र मोदी ने की सोनभद्र और मिर्जापुर में ग्रामीण पेयजल सप्लाई योजनओं की शुरआत
  • 5555.38 करोड़ की लागत से दोनों जिलों के की 42 लाख आबादी को मिलेगा पीने का साफ पानी
  • 70 सालों में 339 गांवों तक पहुंचा था पानी, दो साल में 2995 गांवों तक में घर-घर में नल से जल

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

मिर्जापुर/सोनभद्र. पीने के पानी की समस्या सोना उगलने वाली धरती के लोगों के लिये किसी अभिषाप से कम नहीं। आजादी के 70 साल बाद भी सोनभद्र में लाखों की आबादी को पीने का पानी तक मुहैया नहीं। ये हालात उस क्षेत्र में है जो नदियों, झीलों और झरनों से भरा पड़ा है। इन सबके बावजूद यहां के लोगों को पानी के लिये कई-कई किलोमीटर का सफर तय करना पड़ता है। सूरज की पहली किरण के साथ यहां के लोगों की पानी के लिये जद्दोजेहद शुरू हो जाती है। 20 से 25 लीटर पानी के लिये कभी-कभी 10-10 किलोमीटर भी चलना पड़ता है। मिर्जापुर मंडल के विंध्य क्षेत्र में लाखों की आबादी के सामने पीने के पानी का संकट सालों से चला आ रहा है। सरकारें आती-जाती रहीं पर यहां के लोगों को वादों और आश्वासनों के अलावा कुछ नहीं मिला। 70 साल में जहां महज 339 गांवों को ही पीने का पाी मुहैया हो सका था वहीं अब अगले दो साल में 2995 गांवों की करीब 42 लाख आबादी को पीने का पानी उनके घर में नल से मिलेगा। एक बड़ी आबादी को पीने के पानी का उनका बुनियादी हक मिलेगा।

 

इसे भी पढ़ें- पीएम-सीएम देंगे 5555 करोड़ की पेयजल परियोजनओं की सौगात, सोनभद्र-मिर्जापुर में 'हर घर नल योजना’ की शुरआत


जमीनी हकीकत और हालात बदलने की शुरुआत

सरकारों ने वादे और दावे तो बहुत किये, लेकिन न तो जमीनी हकीकत बदली और न ही हालात। अब केन्द्र सरकार ने इलाके के लाखों लोगों को पीने के पानी के लिये संघर्ष से मुक्ति दिलाने के लिये जल जीवन मिशन के तहत बड़ा कदम उठाया है। यह सरकार की अपने आप में बड़ी परियोजना है, जिससे अगले दो साल में इलाके के लाखों लोगों को पीने का पानी नल के जरिये सीधे उनके घर में ही मुहैया होगा।

 

pm_modi3.jpg
प्रधानमंत्री ने सोनभद्र-मिर्जापुर में 5555.38 करोड़ की 23 पेयजल परियोजनओं की शुरआत की IMAGE CREDIT:

 

42 लाख आबादी को मिलेगा पीने का साफ पानी

रविवार को पीएम नरेन्द्र मोदी ने 'जल जीवन मिशन' के तहत जिन 23 पेयजल परियोजनाओं की शुरुआत की है उनसे सोनभद्र और मिर्जापुर के सुदूर ग्रामीण और दुर्गम पहाड़ी इलाकों समेत 2,995 गांवों की 42 लाख आबादी को पीने का पानी मयस्सर होगा। इन परियोजनाओं पर कुल 5555.38 करोड़ रुपये खर्च होंगे। सभी ग्रामीण पाइपलाइन पेयजल योजनाओं का प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये शिलान्यास किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि जल जीवन मिशन के तहत घर-घर पाइप से पानी पहुंचने की वजह से माताओं-बहनों का जीवन आसान हो रहा है। वाकई में सरकार ने जो वादा किया है उससे दो साल में सोनभद्र और मिर्जापुर की महिलाओं कई किलोमीटर पैदल चलकर पानी लाने की समस्या से छुटकारा मिल जाएगा।

 

इसे भी पढ़ें- 5555 कराेेड़ की जल योजना की सौगात देंगे पीएम मोदी, मोहन भागवत कसेंगे संगठन के पेंच

दो साल में दूर होगी समस्या

केन्द्र की 'जल जीवन मिशन' योजना के अंतर्गत 'हर घर में नल से जल' योजना के तहत योगी सरकार मिर्जापुर के 1,606 गांवाें में पाइपलाइन के जरिये पेयजल की सप्लाई करेगी। इससे मिर्जापुर के 21,879,80 ग्रामीणों को पीने का साफ पानी मिलेगा। मिर्जापुर में बांध पर इकट्ठा किये गए पानी को पीने योग्य बनाकर सप्लाई किया जाएगा। इसपर 2343.20 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। इसी तरह सोनभद्र के 1,389 गांवों के 19,534,58 परिवारों को सीधे नल से उनके घर में पानी मिलेगा। सोनभद्र की नदियों और झीलों के पानी को वाटर ट्रीटमेंट प्लांट में साफ कर पीने योग्या बनाया जाएगा, फिर पाइपलाइन के जरिये लोगों के घरों में सप्लाई होगी। इन सबके लिये सोनभद्र में 3212.18 करोड़ रुपये खर्च होंगे। इन योजनाओं को पूरा कर दो साल में ही दोनों जिलों के 41,414,38 परिवारों को पीने का पानी की सप्लाई शुरू कर दी जाएगी।

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned