1993 मुंबई सीरियल ब्लास्ट : सलेम समेत सभी आरोपियों पर 7 सितंबर को सुनाई जाएगी सजा

टाडा कोर्ट गैंगेस्टर अबू सलेम समेत 6 आरोपियों को साजिशकर्ता मान चुका है।

 नई दिल्ली: 1993 को मुंबई में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों के मामले में विशेष टाडा कोर्ट अगले महीने 7 सितंबर को सजा का फैसला सुनाएगा । इस केस में गैंगेस्टर अबू सलेम समेत सभी 6 आरोपियों के खिलाफ सजा सुनाई जाएगी। 


 इससे पहले टाडा कोर्ट साजिश के  मास्टमाइंड मुस्तफा डोसा और गैंगेस्टर अबू सलेम फिरोज अब्दुल रशीद खान, करीमुल्ला, रियाज सिद्दीकी और ताहिर मर्चेंट को दोषी करार दिया है। सिलसिलेवार बम धमाकों के मामले में विशेष टाडा अदालत ने 16 जून 2017 को 7 आरोपियों में से अब्दुल कय्यूम को बरी कर दिया था और  6 आरोपियों को बम ब्लास्ट का साजिशकर्ता मानते हुए दोषी करार दिया था। वहीं ब्लास्ट के मास्टर माइंड मुस्तफा डोसा की  28 जून 2017 को हार्ट अटैक आने से मौत हो चुकी है।

अबू सलेम दोषी करार
अदालत ने कहा कि सरकारी पक्ष ने जो केस बनाया था वो साबित कर दिया है। अदालत ने कहा कि गुजरात के भरूच से जो विस्फोटक लाया और कई लोगों एके-56 मुहैया कराया था इसलिए सलेम भी दोषी है। इससे पहले बता दें कि जस्टिस गोविंद ए सनप की अदालत ने कहा कि मुस्तफा डोसा पर सभी आरोप साबित हुए हैं जिसमें हत्या, विस्फोटक एक्ट और आपराधिक षड़यंत्र रचना शामिल है।

मुस्ताफा की  2004 में गिरफ्तारी
इन 6 दोषियों में सलेम के अलावा मुस्तफा और मोहम्मद दोसा (दोसा बंधु), ताहिर मर्चेंट, अब्दुल कय्यूम, करीमुल्ला शेख और फिरोज राशिद खान शामिल हैं। अदालत ने कुछ दिनों पहले ही इस मामले की सुनवाई पूरी की थी। बम धमाके के दोषी मुस्तफा दोसा को साल 2004 में यूएई से गिरफ्तार किया गया था।

257 लोगों की हो चुकी है मौत

गौरतलब है कि इस विस्फोट मामले में 257 लोगों की जान जा चुकी है। जबकि 700 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हुए थे और  27 करोड़ रुपए की संपत्ति नष्ट हो गई थी। इस मामले में 129 लोगों के खिलाफ आरोपपत्र दायर किया गया था।

Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned