जवाहर नवोदय विद्यालय में 49 विद्यार्थियों की मौत, NHRC ने HRD से 6 हफ्तों में मांगा जवाब

एक जांच में यह बात सामने आई है कि 2013-17 के बीच जेएनवी में 49 विद्यार्थियों ने आत्महत्या की है।

नई दिल्ली। जवाहर नवोदय विद्यालय (जेएनवी) से एक सनसनी फैलाने वाली खबर सामने आई है। दरअसल एक जांच में यह बात सामने आई है कि 2013-17 के बीच जेएनवी में 49 विद्यार्थियों ने आत्महत्या की है। इस खबर के सामने आने के बाद से राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) हरकत में आ गया है। एनएचआरसी ने मंगलवार को मानव संसाधन मंत्रालय (HRD) को इस मामले में नोटिस भेजा है और 6 हफ्तों के अंदर जवाब मांगा है। बता दें कि जांच में यह बात सामने आई है कि आत्महत्या करने वाले विद्यार्थियों में सबसे अधिक दलित और आदिवासी थे, जिसमें से अधिकांश लड़के थे।

गुजरात: आर्थिक तंगी से परेशान एक ही परिवार के पांच लोगों ने की आत्महत्या, इलाके में मची सनसनी

अधिकांश विद्यार्थियों ने फांसी लगाकर की आत्महत्या

बता दें कि मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है, एनएचआरसी के एक बयान के मुताबिक 49 विद्यार्थियों में से केवल सात को छोड़कर सभी ने फांसी लगाकर आत्महत्या की है। सबसे विचित्र बात यह सामने आई है कि उनके शवों को सबसे पहले या तो सहपाठियों या फिर स्कूल स्टाफ ने देखा था। आयोग ने कहा है कि इस मामले को गंभीरता से लेना पड़ेगा। यदि नहीं लिया गया तो फिर जेएनवी में आत्महत्या करने वाले विद्यार्थियों की समस्या बढ़ सकती है। बता दें कि आयोग ने एससी-एसटी समुदायों के बच्चों की आत्महत्या पर चिंता जाहिर की है। आयोग ने जानकारी मांगी है कि क्या स्कूल परिसर में प्रशिक्षित काउंसलर थे जिनके सामने बच्चे खुलकर अपनी बात रख सकते हैं। साथ ही यह भी पूछा है कि क्या समर्पित कर्मचारियों को यह सुनिश्चित करने के लिए नियोजित किया जाता है कि बच्चों को कमरों में अकेला नहीं छोड़ा जाए और क्या टेलीफोन के जरिए परामर्श और आत्महत्या हॉटलाइन सेवाओं के माध्यम से आपातकालीन सहायता उनके लिए उपलब्ध थी। आपको बता दें कि जेएनवी की शुरूआत 1985-86 में की गई थी। मौजूदा समय में 635 जेएनवी में 2.8 लाख छात्र पढ़ते हैं।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned