बिहार के बाद असम में इन्सेफलाइटिस का कहर, जापानी बुखार से मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 50

  • Japanese Encephalitis असम में अब तक 50 लोगों की मौत
  • बिहार में Acute Encephalitis Syndrome से लगभग 150 मौत
  • महामारी के चलते सरकार ने डॉक्टरों की छुट्टियां की रद्द

नई दिल्ली। बिहार में सैंकड़ों का जीवन लीलने के बाद इन्सेफलाइटिस अब असम में अपना कहर बरपा रहा है। कोकराझार को छोड़कर राज्य के सभी जिले इस जापानी इन्सेफलाइटिस ( Japanese Encephalitis ) की चपेट में आ गए हैं। इस जानलेवा बुखार से असम में अब तक 50 लोगों की मौत हो चुकी है। इन्सेफलाइटिस से मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। शनिवार को भी दीमा हसाओ जिले के हैफलॉन्ग हॉस्पिटल में एक एक मरीज ने दम तोड़ दिया। आपको बता दें कि बिहार में एक्यूट इन्सेफलाइटिस सिंड्रोम ( Acute Encephalitis Syndrome ) से लगभग 150 बच्चों की जान चली गई है। अकेले मुजफ्फराबाद में ही चमकी बुखार से 120 से अधिक मौतें हो चुकी हैं।

 Japanese Encephalitis in Assam

सरकार ने डॉक्टरों की छुट्टियां को कर दिया रद्द

असम में फैलती इस महामारी ( Japanese Encephalitis ) के चलते राज्य सरकार ने डॉक्टरों की छुट्टियां को रद्द कर दिया है। इसके साथ ही इस बीमारी से निपटने के प्रयास भी तेज कर दिए हैं। हेल्थ मिनिस्टर हेमंत बिस्व शर्मा के अनुसार आपातकालीन मामलों में केवल उप आयुक्त को अवकाश की अनुमति मिल सकेगी। जबकि कोई डॉक्टर या नर्स अपनी तैनाती वाली जगह छोड़कर बाहर नहीं जा सकेंगे। हेल्थ मिनिस्टर ने कहा कि अगर कहीं कोई लापरवाही या कोई हेल्थ कर्मी गैरहाजिर पाया जाता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

दिल्ली: राजनीति में उतरीं मशहूर डांसर सपना चौधरी, भाजपा में हुईं शामिल

 Japanese Encephalitis in Assam

Japanese Encephalitis की वजह से असम में संक्रमण काल

राज्य में सभी उप आयुक्तों को पंचायत और शहरी निकायों के साथ जापानी इन्सेफलाइटिस ( Japanese Encephalitis ) के केसों में सहयोग करने के निर्देश जारी गए हैं। हेमंत बिस्व शर्मा ने बताया कि जेई की वजह से असम इस समय संक्रमण काल से दो चार हो रहा है। आपको बता दें कि 5 जुलाई तक जेई के सामने आए 190 केसों में से 50 मरीजों की मौत हो चुकी हैं।

केरल: पादरी पर बॉयज होम के बच्चों के यौन शोषण का आरोप, पुलिस ने किया गिरफ्तार

 Japanese Encephalitis in Assam

60 वर्षीय महिला Japanese Encephalitis का पहला शिकार

जानकारी के अनुसार जेई ( Japanese Encephalitis ) का पहला केस राज्य के दीमा हसाओ जिले में देखने को मिला था। यहां कुंजलता हकमकासा नाम की 60 वर्षीय महिला जेई का पहला शिकार हुई थी। कुंजलता को हैफलॉन्ग सिविल हॉस्पिटल में कराया गया था, लेकिन उनको बचाया न जा सका।

मुंबई: मरीन ड्राइव में हाई डाइड का कहर, डूबने से एक की मौत और एक लापता

 Japanese Encephalitis in Assam
Show More
Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned