60 साल का बुजुर्ग फौजी परिवार की खातिर भीड़ गया तेंदुए से, जानिए फिर क्या हुआ

Rajkumar Pal

Publish: Nov, 15 2017 06:14:48 (IST)

Miscellenous India
60 साल का बुजुर्ग फौजी परिवार की खातिर भीड़ गया तेंदुए से, जानिए फिर क्या हुआ

तेंदुए द्वारा किए गए इस हमले में पूर्व फौजी गंभीर रूप से घायल हो गए, लेकिन उन्होंने अपने परिवार को खरोंच भी नहीं आने दिया।

देहरादून। किसी ने सही कहा है कि परिवार की जान पर बन आए तो फिर आदमी किसी से भी दो-दो हाथ करने से गुरेज नहीं करता है। वहीं बात अगर जब एक फौजी की हो तो जीवन में उनका एक सिद्धांत रहता है करो या मरो। इसकी मिसाल पेश करते हुए साठ की उम्र में सेवानिवृत फौजी ने घर में घुसे तेंदुए से दस मिनट हुए संघर्ष में खदेड़ भगाया। तेंदुए द्वारा किए गए इस हमले में पूर्व फौजी गंभीर रूप से घायल हो गए, लेकिन उन्होंने अपने परिवार को खरोंच भी नहीं आने दिया।

जानकारी के मुताबिक यह वाक्या बागेश्वर जिले के कांडा तहसील के करडिया देवल का है। गांव निवासी पूरन सिंह भंडारी पुत्र त्रिलोक सिंह सुबह के लगभग तीन बजे घर से बाथरूम जाने के लिए बाहर निकले थे। जैसे ही उन्होंने दरवाजा खोला, सामने घात लगाकर बैठे तेंदुए ने उन पर हमला कर दिया। हमला इतना जोरदार था कि उन्हें संभलने का मौका भी न मिला और वे गिर पड़े। वहीं घर के अंदर पूरन सिंह की पत्नी, बहू व पांच माह का शिशु सो रहा था।

पालतू कुत्ता ले भागा तेंदुआ

पूरन सिंह अपनों की आशंका से सिहर उठे और अपने से ज्यादा वे घर वालों के बारे में सोचते हुए, खौफनाक तेंदुए से ही भिड़ गए। दोनों में काफी देर तक गुथम-गुत्था होती रही, अंत में तेंदुआ पलटा और घर के पालतू कुत्ते को उठाकर भाग गया। इस बीच स्थानीय निवासी शोर सुन कर मौके पर एकत्रित हो गए। उसके बाद पूरन सिंह को इलाज के लिए सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया।

सिर और पेट में लगे टांके

जहां डॉ. संदीप ने बताया कि पूरन सिंह के सिर में सात टांके, दाहिने हाथ और पेट में दस-दस टांके आए हैं। इस घटना के चलते पूरे गांव में भय का माहौल है और तेंदुए को पकड़ने की मांग की जा रही है। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि लोग रात के समय घर से बाहर न निकलें। साथ ही उन्होंने कहा कि तेंदुए को पकड़ने के लिए आवश्यक कार्रवाई की जा रही है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned