लॉकडाउन से तंग आकर मजदूर ने की आत्महत्या, चंदा जुटाकर किया गया अंतिम संस्कार

Highlight

- लॉकडाउन की वजह से मजदूर के सामने खड़ा हो गया था आर्थिक संकट

- अंतिम संस्कार के लिए भी नहीं बचे थे पैसे

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के चलते लॉकडाउन की वजह से देश के दिहाड़ी मजदूर पर दोहरी मार पड़ी है। एक तरफ बीमारी का डर, तो वहीं लॉकडाउन के चलते उनके काम-धंधे ठप्प हो गए हैं, जिसकी वजह से मजदूरों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। गुरुवार को आर्थिक तंगी से जंग लड़ते हुए एक मजदूर ने खुदकुशी कर ली।

फंदे से लटका मिला शव

पूरा मामला गुरुग्राम के सेक्टर 53 का है, जहां बिहार के रहने वाले एक मजदूर ने आर्थिक तंगी से परेशान होकर आत्महत्या कर ली। पुलिस के मुताबिक, मजदूर पैसों की तंगी से परेशान था, और घरवालों की चिंता में दोपहर को उसने अपनी झुग्गी में ही फांसी लगा ली। हालांकि, पुलिस को उसके घर से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है।

पैसों की चिंता ने ले ली जान

पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराकर, परिजनों को सौंप दिया है। सेक्टर-53 थाना पुलिस के मुताबिक, मृतक मजदूर की पहचान मुकेश के रूप में हुई है। 30 वर्षीय मुकेश बिहार के गया जिले के बारा गांव से यहां आकर बसा था। यहां वो सफेदी का काम करके अपना घर चलाता था। उसकी पत्नी पूनम ने बताया कि मुकेश काम बंद होने के बाद पैसों की कमी से बेहद परेशान था। उसे चिंता थी कि वो अपनी पत्नी और चार बच्चों को क्या खिलायेगा।

घर के राशन के लिए बेचना पड़ा फोन

पूनम ने पुलिस को बताया कि गुरुवार को ही मुकेश ने राशन के लिए ढाई हजार में अपना फोन बेचा था। इन पैसों से खाने की जरूरी चीजों के अलावा गर्मी से बचने के लिए एक पंखा भी लाया था। बचे हुई पैसे पत्नी को देकर मुकेश झुग्गी में लेटने चला गया। पत्नी के मुताबिक, जिस वक्त मुकेश ने आत्महत्या की उसके बच्चे बाहर ही खेल रहे थे और वो पास में ही अपने पिता के घर गई थी

अंतिम संस्कार के लिए झुग्गी के लोगों ने जुटाए पैसे

मुकेश के ससुर ने बताया, पहले मुकेश आसपास के दुकान से सामान उधार लिया करता था और पैसे आने पर चुका देता था। लेकिन जबसे लॉकडाउन हुआ है दुकानदार उधार देने से मना करने लगे हैं। इसलिए मुकेश काफी चिंता में था। ससुर ने बताया कि मुकेश के अंतिम संस्कार के लिए झुग्गियों में रहने वाले लोगों ने पैसे इकट्ठा किए, तब उसका दाह संस्कार हो सका।

Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned