कब्रों के बीच बनी है ये चाय की दुकान, दुनियाभर में बटोर रही सुर्खियां

कब्रों के बीच बनी है ये चाय की दुकान, दुनियाभर में बटोर रही सुर्खियां

कई लोग कब्रों वाले ‘द न्यू लकी रेस्टूरेंट’ को अपने लिए लकी मानते हैं

नई दिल्ली। 26 कब्रों से लैस इस रेस्‍टोरेंट के अंदर जाते ही किसी को हैरानी होती है तो किसी को परेशानी और हो भी क्यों न मुर्दों के साथ कौन चाय पीता है भाई? करीब 50 साल पुराना ये 'द न्यू लकी रेस्टूरेंट' इसलिए मशहूर है क्यों कि यहां कई कब्रों के बीच चाय और नाश्ता परोसा जाता है, यहां के पुराने ग्राहकों का कहना है कि पहले ये दुकान खुले में हुआ करती थी। कब्रें तो तब भी थीं लेकिन अब इसकी काया पूरी की पूरी पलट चुकी है। पहले ये बेनाम हुआ करती थी आज इसका नाम है जिसे लोग अहमदाबाद की फेमस ‘द न्यू लकी रेस्‍टोरेंट’ कहकर पुकारते हैं।

business,restaurant,unique,ahmadabad,cemetery,coffins,Experience,

चाय के आदि लोगों को ही इस बात का पता होगा कि चाय की चुस्की के साथ अगर माहौल भी खुशनुमा हो जैसे टेरेस गर्दन, नंदी का किनारा, बीच तो फिर बात ही क्या है लेकिन इस रेस्‍टोरेंट की बात ही कुछ अलग है। यहां आने वाले लोग इसकी तारीफ करते नहीं थकते। कब्रों के आस-पास बने अनूठे सिटिंग अरेंजमेंट की वजह से लोग दूर-दूर से यहां चाय की चुस्कीयां लेने आते हैं। ये कांसेप्ट बुजुर्गों के साथ-साथ यूवाओं में भी खासा लोकप्रिय है कई लोग कब्रों वाले ‘द न्यू लकी रेस्टूरेंट’ को अपने लिए लकी मानते हैं।

business,restaurant,unique,ahmadabad,cemetery,coffins,Experience,

इसकी लोकप्रियता का अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि किसी जमाने में ये रेस्‍टोरेंट मशहूर पेंटर एमएफ हुसैन की खास जगहों में से एक हुआ करता था। कई बार वो यहां पेंटिंग करते नजर आ जाते थे वो इस जगह से इतने प्रभावित थे कि उन्होंने अपनी कुछ पेंटिंग्स रेस्टूरेंट को तोहफे के रूप में दी थी। यहां सिर्फ स्थानीय लोग ही नहीं आते बल्कि यहां दूर-दूर से लोग सिर्फ चाय और इस माहौल के मजे लेने आते हैं। अक्सर आपको यहां विदेशी भी नजर आ जाएंगे। अहमदाबाद के इस रेस्‍टोरेंट का नजारा अपने आप में बेहद अलग है जहां कब्रों के किनारे बैठकर लोग नाश्ता करते हैं और चाय की चुस्कियों के बीच गप्‍पे मारते हैं।

business,restaurant,unique,ahmadabad,cemetery,coffins,Experience,
Ad Block is Banned