Aarogya Setu App विवाद पर आया जवाब, सरकारी-निजी भागीदारी में किया गया विकसित

  • आरोग्य सेतु ऐप ( Aarogya Setu App ) को लेकर डाली गई एक आरटीआई के बाद बढ़ा विवाद।
  • मुख्य सूचना आयोग ने मांगा था एनआईसी, ई-गवर्नेंस डिविजन और मंत्रालय से जवाब।
  • ऐप ने ट्वीट कर बताया- सारी जानकारी सार्वजनिक, पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप में बनाया।

नई दिल्ली। मुख्य सूचना आयोग द्वारा सख्ती से पूछे जाने के बाद केंद्र सरकार की तरफ से आरोग्य सेतु ऐप ( Aarogya Setu App ) को लेकर स्पष्टीकरण आ गया है। केंद्र सरकार का जवाब है कि सरकार द्वारा निजी उद्यमों के साथ मिलकर आरोग्य सेतु ऐप विकसित किया गया था।

आरोग्य सेतु ऐप किसने बनाया, बन गया है सबसे बड़ा राज, ना सरकार को पता ना ही NIC को, अब मांगा जवाब

नेशनल इन्फॉर्मेटिक्स सेंटर (एनआईसी) से कहा था कि उसे इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि आरोग्य सेतु ऐप किसने बनाया है और इसे कैसे बनाया गया है। इससे पहले मुख्य सूचना आयोग ने एनआईसी से इस बात का बिना टाल-मटोल के सीधा जवाब मांगा था कि किसने आरोग्य सेतु ऐप को बनाया है।

इस संबंध में आरोग्य सेतु ऐप द्वारा आधिकारिक ट्विटर हैंडल के जरिये बुधवार शाम को स्पष्टीकरण जारी किया गया है। इसके मुताबिक वो एक आरटीआई द्वारा मांगी गई जानकारी को लेकर मुख्य सूचना आयोग द्वारा केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सीपीआईओ और एनआईसी को आगामी 24 नवंबर 2020 को पेश होने के आदेश देने के बाद इसे जारी कर रहे हैं।

इसमें बताया गया है कि भारत में आरोग्य सेतु ऐप और कोरोना वायरस महामारी को काबू में करने को लेकर इसकी भूमिका के बारे में कोई संदेह नहीं किया जाना चाहिए। बीते 2 अप्रैल 2020 को सोशल मीडिया पोस्ट और प्रेस विज्ञप्ति के जरिये इस बात की घोषणा की जा चुकी थी कि इस ऐप को कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई के लिए पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत भारत सरकार ने लॉन्च किया था।

Coronavirus: भारतीय सेना ने जवानों को दी चेतावनी, आरोग्य सेतु ऐप का सावधानी से करें इस्तेमाल

इसमें आगे बताया गया है कि आरोग्य सेतु ऐप को रिकॉर्ड 21 दिन के भीतर डेवलप किया गया था। महामारी के दौरान लागू लॉकडाउन प्रतिबंधों की प्रतिक्रिया स्वरूप इस ऐप को उद्योगों, अकादमिक और सरकार के श्रेष्ठ व्यक्तियों द्वारा लगातार काम करके बनाया गया, जिसका मकसद मेड इन इंडिया मजबूत, मापने योग्य और सुरक्षित कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग ऐप विकसित करना था।

इस स्पष्टीकरण में यह जानकारी भी दी गई है कि इस ऐप से जुड़े व्यक्तियों-प्रबंधन और अन्य जानकारियां भी इसे पेश किए जाने के दौरान सार्वजनिक रूप से जारी की गई थीं। इसके अलावा इस ऐप से जुड़ी जानकारी को पारदर्शी भी रखा गया और सभी जानकारियां सार्वजनिक तौर पर पेश की गईं।

कोरोना पर लगाम लगाएगा मोबाइल एप, जानिए क्या है 'Aarogya Setu'

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी भारत में कोरोना वायरस महामारी को काबू करने के लिए इस ऐप की तारीफ की थी। इसके अलावा भारत में यह ऐप कोरोना पर नियंत्रण के लिए काफी कारगर साबित हुआ और इसे 16.23 करोड़ से ज्यादा यूजर्स ने डाउनलोड किया है।

Aarogya Setu App के इस्तेमाल को लेकर सरकार गंभीर, उठाए कड़े कदम

आवेदन के आधिकारिक हैंडल से ट्वीट किए गए दो पेज के स्पष्टीकरण में, केंद्र ने कहा कि आरोग्य सेतु को 16.23 करोड़ से अधिक उपयोगकर्ताओं द्वारा डाउनलोड किया गया है और यह कोविद -19 के खिलाफ भारत की लड़ाई को मजबूत कर रहा है।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned