फेसबुक पर शादी के लिए निकाला था विज्ञापन, अब स्वयंवर में गीता करेगी अपने जीवनसाथी का चुनाव

फेसबुक पर गीता के वैवाहिक विज्ञापन को देखने के बाद 25 लड़कों ने उनसे विवाह कर सात फेरे लेने की इच्छा जताई।

नई दिल्ली। वर्ष 2015 में पाकिस्तान से भारत वापस लौटी मूक-बधिर गीता अब विवाह करने जा रही हैं। गीता ने इसके लिए बकायदा सोशल मीडिया फेसबुक पर विज्ञापन भी निकलवाया था और अब उनमें से 15 युवकों के साथ रू-ब-रू होंगी। सबसे बड़ी बात यह है कि इन 15 युवकों में से कोई लेखक है, तो कोई आईटी पेशेवर और रेलवे कर्मचारी। इन सबने फेसबुक पर गीता के वैवाहिक विज्ञापन को देखने के बाद उनसे विवाह कर सात फेरे लेने की इच्छा जताई।

गीता ने 15 लड़कों से मिलने की जताई इच्छा

आपको बता दें कि गीता के लिए योग्य वर ढूंढने में सहायक रहे सांकेतिक भाषा विशेषज्ञ ज्ञानेंद्र पुरोहित ने बताया कि विदेश मंत्रालय के निर्देशों के मुताबिक गीता को 25 लड़कों के बायोडेटा और तस्वीरें दिखाई गईं। गीता ने उनमें से 15 लड़कों से मिलने की इच्छा जताई। सबसे खास बात यह है कि इन 15 लड़कों में से 10 लड़के ऐसे हैं जो बेहद सामान्य हैं, गीता की तरह विषेश जरुरतों वाले नहीं हैं।

गीता रचाने वाली है स्वयंवर, शादी के लिए 30 दावेदार

शादी के लिए हैं कुछ शर्तें

आपको बता दें कि गीता से शादी करने वाले लड़के को पहले कुछ शर्तें पूरी करनी होगी। पहला यह कि यदि गीता कोई सामान्य लडके को पसंद करती है तो उन्हें सांकेतिक भाषा सीखनी होगी, जिससे उनदोनों के बीच संवाद करने में कोई दिक्कत न हो। दूसरा यह कि उनके माता-पिता के खोज में उनकी सहायता करनी होगी।

शादी के लिए निकाला था विज्ञापन

आपको बता दें कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मिलने के बाद गीता ने अपने विवाह के लिए सोशल मीडिया फेसबुक पर 10 अप्रैल को वैवाहिक विज्ञापन पोस्ट किया था। इसके बाद से देश भर से 50 लोगों ने गीता से शादी करने की इच्छा जताई। विदेश मंत्रालय ने इनमें से 25 लोगों को छांटकर जिला प्रशासन को निर्देशित किया था कि इन्हें गीता से मिलवाने के लिए इंतजाम करें ताकि वह अपनी पसंद की वर चुन सकती हैं।

गीता से विवाह के लिए आए प्रस्तावों को विदेश मंत्रालय ने प्रशासन के पास भेजा

मध्य-प्रदेश में रहती है गीता

आपको बता दें कि गीता मध्य प्रदेश के सामाजिक न्याय और निःशक्त कल्याण विभाग की देख-रेख में इंदौर की गैर सरकारी संस्था ‘मूक बधिर संगठन’ के गुमाश्ता नगर स्थित आवासीय परिसर पर रह रही है। बता दें कि सरकार गीता के माता-पिता के तलाश में जुटी हुई है। बीते ढ़ाई वर्ष के दौरान 10 से ज्यादा ऐसे परिवार सामने आ चुके हैं जिन्होने गीता को अपनी बेटी बताया है, लेकिन किसी ने अबतक सही साक्ष्य पेश नहीं किया है। गौरतलब है कि गीता जब 7-8 वर्ष की थी तब पाकिस्तानी रेंजर्स को समझौता एक्सप्रेस में लाहौर रेलवे स्टेशन पर मिली थी। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के अथक प्रयासों के बाद मूक-बधिर गीता पाकिस्तान से वापस 26 अक्टूबर 2015 को भारत लौंटी थी।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned