एम्स के डॉक्टर वीडियो कॉन्फ्रेंस से भी मरीजों को देखेंगे 

एम्स के डॉक्टर वीडियो कॉन्फ्रेंस से भी मरीजों को देखेंगे 

अस्पताल ने वीडियो क्लीनिक शुरू किया। डॉक्टर मरीजों को ऑनलाइन देंगे सलाह। देश में पहली बार ऐसी सुविधा दी गई।

नई दिल्ली. देश के सबसे बड़े अस्पताल एम्स में मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए अस्पताल ने बड़ी पहल की है। एम्स ने वीडियो क्लीनिक शुरू किया है। मरीज घर बैठे वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये डॉक्टर से सलाह ले सकेंगे। मरीजों को पहले वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा। मरीज का जी-मेल अकाउंट होना बेहद जरूरी है।

दिल की बीमारी के लिए भी दिखाएं

दो तरह के मरीज इस सुविधा का लाभ ले सकते हैं। जो मरीज पहली बार एम्स से संपर्क करेंगे यानी जो फ्रैश केस होंगे वो वीडियो कंसल्टेंट के लिए आवेदन कर पाएंगे। इसके अलावा यदि मरीज का एम्स में इलाज हो चुका है या सर्जरी हो चुकी है तो मरीज उपचार के बाद की सलाह के लिए वीडियो के माध्यम से डॉक्टर से संपर्क कर सकेगा। एम्स के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कुल 20 विभागों के डॉक्टर सलाह देंगे। इनमें मेडिसन, गैसट्रोनेटरोलॉजी, कार्डिलॉजी आदि शामिल हैं।

रिपोर्ट अपलोड करनी होगी

 आईटी विभाग के प्रमुख डॉ. दीपक ने बताया कि वीडियो क्लीनिक तैयार हो चुका है। मरीज के आवेदन के बाद करने पर उसे अप्वाइंटमेंट मिलेगा। तय समय पर डॉक्टर वेबसाइट पर मरीज को देखेंगे। उन्होंने बताया कि मरीज को मेडिकल रिपोर्ट अपलोड करनी होगी। डॉक्टर मेडिकल रिकॉर्ड के आधार पर ही सलाह देंगे। बता दें कि ऑनलाइन कंसल्टेंट के वक्त हर डॉक्टर के साथ नर्स की टीम भी होगी।

10,000 मरीज रोजाना आते हैं

 एम्स में देशभर से रोजाना औसतन दस हजार मरीज आते हैं। इनमें से 50 फीसदी वो हैं जिनका पहले से ही उपचार चल रहा है। 10 फीसदी फ्रैश केस और 40 फीसदी वो हैं जिनका उपचार हो चुका है और दूसरी बार राय लेने के लिए आते हैं। बता दें कि एम्स दो साल पहले ही ऑनलाइन एपाइंटमेंट लेने व जांच रिपोर्ट देखने की व्यवस्था शुरू कर चुका है। इससे मरीजों को सहूलियत हुई है। उन्हें लंबी कतारों में एपाइंटमेंट के लिए नहीं लगना पड़ता। हालांकि स्कीन व रिम्योटलॉजी जैसे कुछ कम विभाग हैं जिनकी एपाइंटमेंट ऑनलाइन नहीं मिलती लेकिन इनकी संख्या कम है।
Ad Block is Banned