अमरनाथ यात्रा: तीर्थयात्रियों का एक और जत्था रवाना, अब तक 1,65,000 लोग कर चुके है दर्शन

शनिवार को यात्रा के लिए 3,048 तीर्थयात्रियों का एक और जत्था जम्मू से घाटी के लिए रवाना हुआ।

श्रीनगर। लगातार हो रही बारिश के बाद काफी समय तक स्थगित रही अमरनाथ यात्रा आखिरकार सुचारू रुप से चल पड़ी है। शनिवार को यात्रा के लिए 3,048 तीर्थयात्रियों का एक और जत्था जम्मू से घाटी के लिए रवाना हुआ। पुलिस के मुताबिक ये सभी 112 वाहनों में सवार होकर अपनी यात्रा करेंगे।

अब तक 1,65,000 तीर्थयात्रियों ने किए हैं बर्फानी बाबा के दर्शन

आपको बता दें कि ये तीर्थयात्री भगवती नगर यात्री निवास से बालटाल और पहलगाम आधार शिविरों की ओर रवाना हुए। इस बारे में श्री अमरनाथ जी श्रायन बोर्ड (एसएएसबी) के एक अधिकारी ने बताया कि अब तक 1,65,000 तीर्थयात्रियों ने बर्फानी बाबा के दर्शन किए हैं।

28 जून को शुरू हुई थी यह तीर्थयात्रा, 26 अगस्त को समाप्त

गौरतलब है कि 28 जून को यह तीर्थयात्रा शुरू हुई थी। लगभग दो महीने तक चलने के बाद यात्रा 26 अगस्त को समाप्त होगी। बता दें कि अमरनाथ यात्रा के लिए 3,451 तीर्थयात्रियों का एक जत्था शुक्रवार को भी जम्मू से रवाना हुआ था, जिसमें यात्री निवास से 110 वाहनों में सवार तीर्थयात्री बालटाल और पहलगाम आधार शिविरों की ओर रवाना हुए।

अमित शाह बोले, 2019 से पहले शुरू होगा राम मंदिर का निर्माण, बीजेपी ने बयान का किया खंडन

मारे गए तीर्थयात्रियों के परिजनों को तीन-तीन लाख रुपए की सहायता का ऐलान

इस साल शुरुआत में यात्रा पर मौसम आफत बना हुआ था। इसके चलते यात्रा को लगातार कई दिनों तक स्थगित करना पड़ा था। साथ ही हादसे में कई यात्रियों की मौत भी हुई थी। जम्मू एवं कश्मीर के राज्यपाल एन.एन.वोहरा ने इस साल यात्रा के दौरान मारे गए तीर्थयात्रियों के परिजनों को तीन-तीन लाख रुपए की सहायता राशि को मंजूरी दी है। बता दें कि बालटाल मार्ग भूस्खलन की घटना में पांच तीर्थयात्रियों की मौत हुई थी जबकि तीन अन्य तीर्थयात्री सड़क हादसे में मारे गए। वहीं, जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर खड़े ट्रक से टकरा जाने से एक वाहन में सवार 13 तीर्थयात्री गुरुवार को घायल हो गए।

Shweta Singh Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned