अंडमान: अमरीकी नागरिक के शव लाने से पहले 'तीर-धनुष' से डरी पुलिस, बीच रास्ते से लौटी

बता दें कि अमरीकी नागरिक जॉन ऐलन चाउ की 17 नवंबर को पोर्ट ब्लेयर में आदिवासियों ने हत्या कर दी थी।

पोर्ट ब्लेयर: अंडमान-निकोबार में अमरीकी नागरिक के शव लाने गई पुलिस आदिवासियों के खौफनाक रूप देखकर खाली हाथ लौट गई। आदिवासियों के हाथ में तीर धनुष देखकर पुलिस शव लिए बिना लौट आई। यह जानकारी डीजीपी दीपेंद्र पाठक ने दी। दीपेंद्र पाठक ने कहा कि शनिवार को नॉर्थ सेंटिनल द्वीप के लिए रवाना हुई टीम को कुछ आदिवासी लोग हाथ में हथियार लिए दिखाई दिए। पुलिस के जवानों ने दूरबीन से देखा तो आदिवासी तीर-धनुष के साथ तैनात थे। आदिवासियों के इस यंत्र को देखकर पुलिस की टीम शव लिए बिना लौट आई।' पुलिस के मुताबिक, वह सेंटिनल द्वीप के लोगों से किसी भी तरह के टकराव से पूरी तरह से बच रही है।

17 नवंबर को अमरीकी नागरिक की हत्या

बता दें कि अमरीकी नागरिक जॉन ऐलन चाउ पोर्ट ब्लेयर आए थे। 17 नवंबर को आदिवासियों को ईसाई धर्म के बारे में कुछ जानकारी दे रहे थे। इसी दौरान आदिवासियों ने उनकी हत्या कर दी थी। अभी तक उनका शव बरामद नहीं हो सका है। चाउ को नॉर्थ सेंटिनल द्वीप तक ले जाने वाले मछुआरे का कहना है कि उसने देखा था कि आदिवासियों ने चाउ को बीच पर ही दफना दिया था।

पुलिस शव को पता लगाने में जुटी-डीजीपी

इससे पहले डीजीपी दीपेंद्र पाठक ने कहा था कि पुलिस अमरीकी नागरिक चाऊ के शव का पता लगाने के लिए मानवविज्ञानी और विशेषज्ञों की मदद लेने पर विचार कर रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि 2006 में भी आदिवासियों ने दो मछुआरों को मौत के घाट उतार दिया था। पुलिस इस मामले को भी जांच रही है। उन्होंने कहा कि पुलिस जानने की कोशिश कर रही है कि आखिर ये समुदाय बाहरी लोगों पर इस तरह से हमले क्यों करते हैं। गौरतलब है कि काफी पुराना यह समुदाय इस सेंटिनल द्वीप पर रहता है और किसी बाहरी का यहां प्रवेश वर्जित है।

Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned