हनीट्रैप में फंसा लेफ्टिनेंट कर्नल रैंक का एक और अधिकारी, जबलपुर में दफ्तर सील

हनीट्रैप में फंसा लेफ्टिनेंट कर्नल रैंक का एक और अधिकारी, जबलपुर में दफ्तर सील

prashant jha | Publish: Feb, 14 2018 07:02:14 PM (IST) | Updated: Feb, 14 2018 07:03:53 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

भारतीय सेना की इंटेलिजेंस विंग ने लेफ्टिनेंट कर्नल रैंक के एक अधिकारी को हिरासत में लिया है। अफसर पर गोपनीय दस्तावेज लीक करने का आरोप है।

नई दिल्ली: इंडियन आर्मी के एक और अफसर पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई द्वारा बिछाए हनी ट्रैप के जाल में फंस गए हैं। अफसर पर देश के दुश्मनों को खुफिया जानकारी देने का आरोप लगा है। जबलपुर में 506 आर्मी बेस वर्कशॉप से हनीट्रैप का कथित मामला सामने आया है। भारतीय सेना की इंटेलिजेंस विंग ने लेफ्टिनेंट कर्नल रैंक के एक अधिकारी को हिरासत में लिया है। हिरासत में लिए गए इस लेफ्टिनेंट कर्नल पर गोपनीय दस्तावेज लीक करने का आरोप है।

आरोपी अफसर का दफ्तर सील

कुछ दिन पहले वायुसेना का ग्रुप कैप्टन अरुण मारवाह भी हनीट्रैप में फंसा था। उसके बाद ये लेफ्टिनेंट कर्नल का नाम सामने आया है। सेना सूत्रों के मुताबिक हैनीट्रैप में फंसे अधिकारी के दफ्तर को सील कर दिया गया है। साथ ही फाइलों और कंप्यूटर की हार्ड ***** को जब्त कर लिया गया है। खबर ये भी है कि कुछ समय पहले ही सेना के इस अधिकारी के खाते में एक करोड़ की रकम को ट्रांसफर किया गया था। हालांकि, अब तक किसी भी बात की आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं हो सकी है।मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए सेना का कोई भी अधिकारी इस बार पर बात करने के लिए तैयार नहीं है।

ये भी पढ़ें: भारतीय अफसरों को हनी ट्रैप में फंसाना चाहती थी ISI, अहम सूचनाएं उगलवाना था मकसद

पाकिस्तान के हनीट्रैप में फंसा एयरफोर्स का ग्रुप कैप्टन
गौरतलब है कि पिछले दिनों दिल्‍ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एयरफोर्स के ग्रुप कैप्टन अरुण मरवाह को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI को गोपनीय दस्तावेज मुहैया कराने के आरोप में दिल्ली से गिरफ्तार किया था। सूत्रों के मुताबिक, कुछ महीने पहले ISI के एक एजेंट ने लड़की बनकर मारवाह से संपर्क किया था। इसके बाद दोनों के बीच बातचीत शुरू हो गई। सूत्रों के मुताबिक आइएसआइ एजेंट ने कैप्टन अरुण मारवाह को पूरी तरह अपने जाल में फंसाने के बाद गोपनीय दस्तावेज भी हासिल कर लिया। जिसके बाद कैप्टन अरुण मारवाह पर जांच कमेटी बैठाई गई । जांच के दौरान मारवाह की जासूसी में संलिप्तता उजागर हुई।

Ad Block is Banned