आसाराम पर फैसले का दिन: 5 साल से भक्तों को है किसी चमत्कार का इंतजार

वैसे तो आसाराम बापू को भी उनके समर्थक चमत्कारी बताते हैं, लेकिन ऐसा कोई चमत्कार पिछले 5 सालों के अंदर देखने को तो नहीं मिला है

नई दिल्ली। नाबालिग से रेप के आरोप में आसाराम बापू के लिए आज का दिन काफी अहम है। आसाराम पर जोधपुर की सेशंस कोर्ट किसी भी वक्त फैसला सुनाने वाली है। फैसला सुनाने के लिए जज मधुसूदन शर्मा कोर्ट पहुंच चुके हैं। इस बीच आसाराम के समर्थकों का कोर्ट के बाहर जमावड़ा लग गया है। प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं। चप्पे-चप्पे पर पुलिस की नजर है।

आसाराम केस: क्या हुआ था उस रात, जानें पीड़िता की जुबानी

5 साल से 'चमत्कार' की आस में हैं आसाराम के समर्थक
फैसले के दिन आसाराम के समर्थक किसी चमत्कार की उम्मीद लगाए जरूर बैठे हैं। वैसे तो आसाराम बापू को भी उनके समर्थक चमत्कारी बताते हैं, लेकिन ऐसा कोई चमत्कार पिछले 5 सालों के अंदर देखने को तो नहीं मिला है। आसाराम को अगस्त 2013 में गिरफ्तार किया गया था और तब से लेकर आज तक वो जेल से बाहर नहीं आ पाए हैं। आसाराम बापू एक बार जेल के अंदर गए और फिर उसके बाद से बाहर नहीं आ पाए। इन पांच सालों में आसाराम के समर्थक सिर्फ चमत्कार का इंतजार करते ही रहे गए। आज के फैसले पर फिर से आसाराम के समर्थक किसी चमत्कार की उम्मीद लगाए बैठे हैं।

आसाराम रेप केसः पीडिता के घर हमले की आशंका, वीडियो में देखिए क्या हो रहा

आरोपियों की तरह ही दिखता है आसाराम का व्यवहार
आपको बता दें कि आसाराम को जोधपुर पुलिस ने 31 अगस्त 2013 को इंदौर से गिरफ्तार किया था। एक बार गिरफ्तारी के बाद से वो ऐसे जेल में गए कि फिर कभी बाहर ही नहीं आ सके। जमानत की अर्जियां तो कई बार दाखिल हुईं, लेकिन कभी गवाहों की मौत तो कभी पीड़ितों को धमकाये जाने की शिकायतों के चलते फौरन खारिज भी हो जाती रहीं। आसाराम को चमत्कारी कहने वाले उनके समर्थकों ने पांच सालों में कोई चमत्कार नहीं देखा है, बल्कि आसाराम को अन्य आरोपियों की तरह ही डरते हुए और रोते हुए देखा है। जब भी सुनवाई पर कोर्ट लाया गया, आसाराम की शिकायतें भी बाकी अपराधियों से कुछ अलग नहीं सामने आयीं। वही अदा, वही गुजारिशें और वही रोना - मैं तो बेकसूर हूं।

आसाराम के भक्तों को कोर्ट से आस, रिहाई के लिए आश्रृम में की पूजा-पाठ

हमसे तो कोई मिलने भी नहीं आता!
आपको ये भी बता दें कि सलमान खान को 2 दिन के लिए जोधपुर सेंट्रल जेल में ही रखा गया था और आसाराम की साथ वाली बैरक नंबर दो में ही सलमान को रखा गया था। इन 2 दिनों में आसाराम बापू को सलमान में चिढ़ जरूर हो गई। दरअसल, 2 दिनों के अंदर सलमान खान से मिलने के लिए लोगों को तांता लगा रहा था। आसाराम बापू के मन में भी ये बात आई कि पांच साल में हमसे मिलने तो कोई नहीं आया। 2013 में शाहजहांपुर की 16 साल की एक लड़की ने आसाराम पर उनके ही जोधपुर आश्रम में बलात्कार का आरोप लगाया था, जिसके बाद उन्हें अगस्त 2013 में गिरफ्तार किया गया था।

Show More
Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned