Ayodhya Verdict: विदेश मंत्रालय ने PAK को लगाई लताड़, कहा- आंतरिक मामले में न दें दखल

  • अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट से फैसला आने के बाद पाकिस्तान ने की टिप्पणी
  • भारत ने पाकिस्तान को साफ चेतावनी दी है कि हमारे आंतरिक मामले में दखल देने की कोशिश न करें

नई दिल्ली। अयोध्या मामले को लेकर देश की सर्वोच्च अदालत ने शनिवार को ऐतिहासिक फैसला दिया है। इस फैसले को लेकर तमाम तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही है। इन सबके बीच कश्मीर मामले पर बौखलाए पाकिस्तान की ओर से भी अयोध्या फैसले पर टिप्पणी आई।

हालांकि भारत ने पाकिस्तान को लताड़ लगाते हुए साफ-साफ शब्दों में दो टूक कह दिया कि हमारे आंतरिक मामले में दखल न दें। विदेश मंत्रालय ने शनिवार को अयोध्या मामले पर पाकिस्तान की टिप्पणी को अनुचित और निराधार बताते हुए उसे खारिज कर दिया।

Ayodhya Verdict: सुप्रीम कोर्ट ने आखिर क्यों इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले को किया खारिज

भारत ने कहा कि यह एक दीवानी मामला है, जो पूरी तरह से आंतरिक है। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पाकिस्तान की अनुचित व निराधार टिप्पणी को खारिज करते हैं। यह पूरी तरह से भारत का आंतरिक मामला है।

धर्म के आधार पर किया गया अयोध्या फैसला: पाकिस्तान

आपको बता दें कि अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट की ओर से फैसला आने के बाद पाकिस्तान ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि अयोध्या पर यह फैसला न्याय की मांग को कायम करने में नाकाम रहा है।

पाकिस्तान के विदेश कार्यालय ने भारत के सुप्रीम कोर्ट की ओर से अयोध्या भमि विवाद मामले में फैसले पर 'गंभीर चिंता' जाहिर की और विदेश कार्यालय के प्रवक्ता ने कहा कि फैसला 'एक बार फिर न्याय की मांग को कायम रहने में विफल रहा है।'

Ayodhya Verdict: विदेश मंत्रालय ने विदेशी राजदूतों को अयोध्या फैसले से कराया अवगत

पाकिस्तान ने आगे यह भी कहा कि इस फैसले ने तथाकथित भारत के धर्मनिरपेक्षता के दिखावे को साफ कर दिया है कि भारत में अल्पसंख्यक अब सुरक्षित नहीं हैं। उन्हें अपनी आस्था व पूजा स्थलों को लेकर डरना होगा।

बता दें कि विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के इस टिप्पणी पर करारा जवाब दिया और पाकिस्तान की निंदा करते हुए कहा गया कि फैसला कानून के शासन से संबंधित है और सभी धर्मों व अवधारणाओं का समान आदर करता है।

बयान में कहा गया कि पाकिस्तान में समझ की कमी आश्चर्य की बात नहीं है। उनकी हमारे आंतरिक मामलों पर टिप्पणी की मजबूरी पूरी तरह से नफरत फैलाने की मंशा से है, जो निंदनीय है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned