'टिक-टॉक' यूजर के लिए बुरी खबर, मद्रास हाईकोर्ट ने इसे बंद करने का दिया आदेश

'टिक-टॉक' यूजर के लिए बुरी खबर, मद्रास हाईकोर्ट ने इसे बंद करने का दिया आदेश

Shiwani Singh | Publish: Apr, 04 2019 04:24:36 PM (IST) | Updated: Apr, 04 2019 05:25:34 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

  • 'टिक-टॉक'चीनी वीडियो मोबाइल ऐप है
  • एक वकील की ओर से इसके खिलाफ डाली गई थी याचिका
  • मीडिया को भी इस ऐप के जरिए बने वीडियो के प्रसारण पर रोक लगाने को कहा

नई दिल्ली। मद्रास हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार को चीनी वीडियो मोबाइल ऐप 'टिक-टॉक'पर रोक लगाने का आदेश जारी किया है। हाईकोर्ट ने कहा कि ये मोबाइल ऐप युवाओं के भविष्य और बच्चों के दिमाग को खराब कर रहा है। बता दें कि अदालत में एक वकील की ओर से इस वीडियो मोबाइल ऐप के खिलाफ याचिका डाली गई थी।

यह भी पढ़ें-महबूबा मुफ्ती की धमकी, 370 हटा तो फिलीपींस जैसे हो जाएंगे जम्मू कश्मीर के हालात

याचिका पर सुनवाई करते हुए मद्रास उच्च न्यायालय की मदुरै पीठ ने बीते बुधवार को केंद्र सरकार को भारत में इस ऐप को डाउनलोड करने पर प्रतिबंध लगाने के लिए अंतरिम आदेश जारी किया था। कोर्ट ने मीडिया को भी इस ऐप के जरिए बने वीडियो का प्रसारण नहीं करने के लिए कहा। अदालत ने कहा कि टिक टॉक की ओर से अनुचित कंटेंट मुहैया कराया जा रहा है और इसे रोकना सरकार की सामाजिक जिम्मेदारी है।

यह भी पढ़ें-ये है वायनाड लोकसभा सीट का इतिहास, राहुल गांधी के लिए है पूरी तरह से 'सुरक्षित'

वहीं, इससे पहले तमिलनाडु के सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री एम.मानिकांदन ने कहा था कि राज्य इस ऐप को भारत में प्रतिबंधित करने के लिए केंद्र सरकार को पत्र लिखेगा। टिक टाक ऐप यूजर्स को शॉर्ट वीडियो शूट करने और इसे अन्य लोगों के साथ शेयर करने की सुविधा देता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned