सावधान! जानलेवा हो सकता है दिल्‍ली का तापमान, अस्‍पतालों में बढ़ने लगी हैं मरीजों की संख्‍या

सावधान! जानलेवा हो सकता है दिल्‍ली का तापमान, अस्‍पतालों में बढ़ने लगी हैं मरीजों की संख्‍या

Dhirendra Kumar Mishra | Publish: Jun, 11 2019 08:31:16 AM (IST) | Updated: Jun, 11 2019 12:04:58 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

  • घर से छाता और पानी का बोतल लेकर ही निकलें
  • बुखार, लू और मांसपेशियों में दर्द के मरीजों की संख्‍या में वृद्धि
  • चक्‍कर आने और बेहोश होकर गिरने की शिकायतों में भी इजाफा

नई दिल्ली। दिल्‍ली में गर्मी ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। जून में पहले कभी इतना तापमान दर्ज नहीं किया गया। तापमान में असामान्‍य बढ़ोतरी से जन जीवन बुरी तरह से प्रभावित होने लगा है। दिल्ली के कई अस्पतालों में चढ़ते पारे के बीच गर्मी से संबंधित बीमारियों के मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। चिकित्सकों का कहना है कि अगर हालात यही रहे तो मरीजों की संख्‍या आगामी कुछ दिनों में खतरनाक स्‍तर पर पहुंच सकता है।

कठुआ गैंगरेप-मर्डर केसः जानिए देश को झकझोरने वाले इस कांड में कब-क्या हुआ?

 

ram  manohar

सिरदर्द की शिकायतों में इजाफा

राष्ट्रीय राजधानी के कई हिस्सों में सोमवार को पारा 48 डिग्री सेल्सियस तक दर्ज किया गया। आरएमएल अस्पताल के मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर एवं कंसल्टेंट डॉ. आरएस तनेजा का कहना है कि पानी की कमी, बुखार, लू लगने और मांसपेशियों में दर्द, दस्त, रक्तचाप कम होने एवं सिर दर्द की शिकायतों के साथ ज्यादा मरीज इमरजेंसी वार्ड में पहुंच रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि हीट से पीडि़त मरीजों में बढ़ोतरी को देखते हुए अस्‍पताल प्रबंधन को विशेष इंतजाम करने को कहा गया है।

पश्चिम बंगाल: BJP का बसिरहाट में 12 घंटे का बंद आज, हिंसा को लेकर तनाव बरकरार

चक्‍कर और बेहोशी के मरीजों की संख्‍य में इजाफा

कई मामलों में लोगों में इलेक्ट्रोलाइट असामान्य स्तर पर पहुंच रहा है जिससे चक्कर आने और बेहोश होने की शिकायतें मिल रही हैं। फिलहाल मरीजों को तत्काल उपचार दे रहे हैं और नसों के जरिए उनमें तरल पदार्थ पहुंचाया जा रहा है।

क्‍या करें

इस मौसम में लोगों को धूप में निकलने से बचना चाहिए, पानी पीते रहना चाहिए और तेल-मसाले वाले भोजन से बचना चाहिए। लोगों को ताजा खाना चाहिए और हल्के रंग के सूती के कपड़े पहनने चाहिए।

 

AIIMS

हालात नियंत्रण में

दिल्‍ली के अस्‍पतालों के डाक्‍टरों का कहना है कि एम्स और सफदरजंग अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में आने वाले मरीजों की संख्या बढ़ी हैं। इनमें हीट स्‍ट्रोक से पीडि़त मरीजों की संख्‍या काफी है। चिकित्‍सकों का कहना है कि अभी चिंता करने लायक कोई बात नहीं है। डॉ. संजय जैन ने कहा कि अब तक लू की वजह से किसी की मौत नहीं हुई है।

भारतीय सेना ने ग्‍लव्‍स विवाद से खुद को किया अलग, बलिदान चिन्‍ह धोनी का निजी निर्णय

 

hit effect

पानी का बोतल लेकर घर से निकलें

जीटीबी अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षकों ने भी कहा कि चिंता करने लायक कोई बात नहीं है। गर्मी से संबंधी मरीजों की संख्‍या में इजाफा हुआ है लेकिन स्थिति नियंत्रण में है। सफदरजंग अस्पताल के एक वरिष्ठ चिकित्सक ने कहा कि धूप में निकलते वक्त अपने साथ छाता लेकर और पानी की एक बोतल लेकर निकलें।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned