सावधान! देशद्रोहियों के निशाने पर हैं सेना और पुलिस के वरिष्‍ठ नौकरशाह, राजौरी पुलिस का दावा

संदिग्‍ध कॉल आने पर संदिग्ध कॉलर्स के साथ किसी भी प्रकार का विवरण साझा न करें।

नई दिल्‍ली। भारत-पाक सीमा पर स्थित राजौरी के पुलिस अधिकारियों ने खुलासा किया है कि कुछ लोग देश विरोधी गतिविधियों में संलिप्‍त हैं। ऐसे लोग वरिष्‍ठ सैन्‍य अधिकारियों और पुलिस अधिकारियों को फेक कॉल के जरिए उनसे राष्‍ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी खुफिया जानकारी हासिल करने की कोशिश करते हैं। वरिष्‍ठ अधिकारियों को विश्‍वास में लेने के लिए खुद को भी वरिष्‍ठ अधिकारी बताते हैं।

पीएम मोदी: भारत एक साथ जिएगा, आगे बढ़ेगा और एक साथ मिलकर सभी जंग जीतेगा

अधिकारियों पास आए 10 से अधिक कॉल्‍स
राजौरी के पुलिस अधिकारियों का कहना है कि इस बात का पता फेक कॉलों की विशेषज्ञों और खुफिया अधिकारियों से जांच के दौरान चला है। पुलिस अधिकारियों ने बताया है कि पिछले कुछ दिनों से दस से अधिक ऐसी रिपोर्टें प्राप्त हुई हैं जिनमें कुछ पुलिस, सिविल अधिकारियों और कुछ नागरिकों के पास संदिग्ध अज्ञात नंबरों से फोन कॉल आए हैं। कॉल करने वाला भी खुद को वरिष्ठ सेना अधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी, वरिष्ठ नागरिक प्रशासन अधिकारी बताता है। एक बार बातचीत का सिलसिला शुरू होने पर फेक कॉ कुछ सुरक्षा संबंधी मुद्दों के बारे में पूछताछ कर महत्‍वपूर्ण जानकारी हासिल करने की कोशिश करते हैं।

दिल्‍ली हाईकोर्ट ने फैसला बरकरार रखा, अब एजेएल को खाली करना होगा 'हेराल्‍ड हाउस'

कॉल्‍स को देश से बाहर किया जाता है रूट
विशेषज्ञों द्वारा जांच के दौरान यह पाया गया है कि इन कॉलों को एक विशेष सॉफ्टवेयर के माध्यम से देश के बाहर से रूट किया जाता है, जिसके कारण कुछ अन्य फोन नंबर, जो ज्यादातर +91 कोड से शुरू होते हैं, मोबाइल स्क्रीन पर प्रदर्शित होते हैं। अब तक की जांच में पता चला है कि भारत के बाहर से कॉल किए जाते हैं। कुछ उपद्रवी, राष्ट्रविरोधी, असामाजिक तत्व वरिष्ठ अधिकारियों के बहाने पुलिस अधिकारी, प्रशासनिक अधिकारी, सैन्‍य अधिकारी व लोगों को बहला-फुसलाकर महत्वपूर्ण जानकारी हासिल करने की कोशिश करते हैं।

येदियुरप्पा बोले- देश में पीएम मोदी की लहर, कर्नाटक में जीतेंगे 28 में से 22 सीटें

राजौरी पुलिस की अपील
राजौरी जिला पुलिस ने लोगों से अपील की है कि अगर इस तरह का संदिग्‍ध कॉल आने पर संदिग्ध कॉलर्स के साथ किसी भी प्रकार का विवरण साझा न करें। जैसे ही आपको पता चले कि कॉलर आपको नहीं जानता है लेकिन कुछ महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने की कोशिश कर रहा है तो आप कॉल को तत्‍काल डिस्कनेक्ट कर दें। इतना ही नहीं इस बात की जानकारी नजदीकी पुलिस थाने में या सीधे वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजौरी के कार्यालय को दें।

pulwama attack
Show More
Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned