भारत रत्न विवाद: दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष ने कहा-पारित प्रस्ताव में नहीं था राजीव गांधी का नाम

राम निवास गोयल ने कहा कि पारित संकल्प पत्र में राजीव गांधी का नाम नहीं इस बात को आप विधायक जरनैल सिंह ने भी माना है।

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का भारत रत्न वापस लेने का मामला अभी भी शांत नहीं हुआ है। इसे लेकर विधानसभा में पारित संकल्प पत्र को लेकर अलग-अलग बातेे सामने आ रही है। इस मामले को लेकर दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल ने ब़ड़ी बता कही है। गोयल ने कहा कि जो प्रस्ताव विधानसभा के सामने रखा गया था उसमें पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम का जिक्र नहीं था। बता दें कि बीते शुक्रवार से आम आदमी पार्टी में अचानक घमासान मच गया था। राजीव गांधी भारत रत्न विवाद पर आप नेता अलका लांबा ने अचानक इस्तीफा दे दिया। अल्का लंबा के इस्तीफे के बाद आप में हड़कंप मच गया है।

यह भी पढ़ें-नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता का विवादित बयान, 'मोदी कबूल लें इस्लाम तो देश में आएगी शांति'

राजीव गांधी का नाम नहीं था पत्र में

मीडिया से बात करते हुए दिल्ली विधानसभा अध्यक्षन ने कहा कि विधानसभा में पारित संकल्प पत्र में राजीव गांधी का नाम नहीं था। इस बात को आप के विधायक जरनैल सिंह ने भी माना है और कहा कि वह पारित नहीं हुआ था।
वही इस बारे में दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी ने भी बीते शनिवार को दावा किया कि पूर्व प्रधानमंत्री का जिक्र संकल्प का हिस्सा नहीं था।

सुझाव देने के लिए स्वतंत्र है विधायक

बता दें कि दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी शनिवार को मीडिया से बात करते हुए कहा था कि 1984 के सिख दंगा मामले में चर्चा हो रही थी। इसके बाद सदन के पटल पर विधायक अपने-अपने प्रस्तवा रख रहे थे, क्योंकि कोई भी सुझाव देने के लिए विधायक स्वतंत्र होते हैं। सिसोदिया ने कहा कि चर्चा के दौरान न केवल आप विधायक वहां मौजूद थे, बल्कि बीजेपी विधायक मनजिंद्र सिंह सिरसा ने भी एक सुझाव दिया था। उन्होंने कहा कि कोई भी सुझाव तभी मान्य होता है जब उस पर वोटिंग की जाती है और सभी की सहमती मिलती है।

Aam Aadmi Party
Show More
Shivani Singh Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned