बिहार: 38 में से 28 जिलों में अब तक नहीं पहुंचा कोरोना, इस फार्मूले से हुआ कमाल

  • देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना वायरस ( coronavirus )
  • बिहार ( Corona ib Bihar ) में केवल 10 जिलों तक सीमित है कोरोना वायरस
  • राज्य में कोरोना वायरस संक्रमितों का आंकड़ा 39

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस ( coronavirus ) का प्रकोप काफी तेजी से बढ़ रहा है। 15 लाख से ज्यादा लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 70 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, भारत ( Coronavirus in india ) में भी यह खतरनाक वायरस काफी तेजी से फैलता जा रहा है। छह हजार से ज्यादा लोग कोरोना के शिकार हो चुके हैं, जबकि 199 लोगों की मौत हो चुकी है। देश के ज्यादातर हिस्सों में कोरोना वायरस अपना कहर बरपा रहा है। लेकिन, कोरोना को लेकर बिहार ( Bihar ) से एक अच्छी खबर भी है। 38 में से 28 जिलों में अब तक कोरोना नहीं पहुंचा है।

दरअसल, बिहार में 22 मार्च को कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया था। यह वायरस अब तक केवल 10 जिलों में ही फैला है। खास बात यह भी है कि कोरोना संक्रमित पटना के सभी छह, मुंगेर के सात में से छह और भागलपुर के सात में से छह मरीज बिल्कुल स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं। हालांकि, सीवान जिले में यह वायरस काफी तेजी से फैल रहा है और उसे बिहार का 'वुहान' भी कहा जाने लगा है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस कोलेकर बिहार सरकार शुरू से ही सभी एहतियाती कदम उठा रही है और उसे जमीन पर लागू भी कर रही है। इसके तहत बाहर से आने वाले लोगों के लिए गांव के बाहर रहने के लिए क्वारंटाइन सेंटर भी बनाया गया है। वहीं, बाहर से आने वाले लोगों पर नजर भी रखी जा रही है। ग्रामीण भी इसके लिए जागरूक नजर आ रहे हैं। कई गांवों में बाहर से आने वाले लोगों को ग्रामीण अपने गांव में नहीं प्रवेश करने दे रहे। चम्पारण के थरुहट इलाके के तो 50 गांव के लोगों ने एक साथ अपने इलाकों में सीलबंदी कर दी थी।

यहां आपको बता दें कि राज्य सरकार ने 23 मार्च की सुबह से ही प्रदेश में तालाबंदी कर दी थी। इसके बाद भारत-नेपाल सीमा को सबसे पहले पूर्ण रूप से सील कर दिया गया। जिन जिलों में कोरोना संक्रमित मरीज नहीं भी थे, वहां संदिग्धों की तलाश की गई और करीब 12 हजार से अधिक लोगों को क्वारंटाइन किया गया था। मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार ने बताया कि बिहार सरकार ने राज्य के सीमा पर 150 शिविर बनाए। जहां बाहर से आने वाले लोगों को रखा जा रहा है। कुल 17,964 लोग ऐसे शिविरो में रह रहे हैं। वहीं, 3147 स्कूल में क्वारंटाइन सेंटर चल रहे हैं, जहां लगभग 35,000 लोग रह रहे हैं। वहीं, लॉकडाउन को सख्ती से पालन करवाने के लिए सरकार ने कई तरह से पहली और काफी हद तक कामयाबी भी मिली है। परिणाम ये है कि राज्य में अब तक केवल 10 जिले ही कोरोना के शिकार हुए हैं।

coronavirus
Show More
Kaushlendra Pathak Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned