Dhanbad से बीजेपी सांसद पीएन सिंह ने नितिन गडकरी को लिखा खत, बताया - जीटी रोड पर डेढ़ साल से काम ठप

  • जीटी रोड पर काम न होने से इंटर स्टेट कारोबार प्रभावित।
  • आईएलएफएस कंपनी जीटी रोड का काम छोड़ फरार।
  • डेढ़ साल से जीटी रोड के सिक्स लेनिंग का काम ठप है।

नई दिल्ली। धनवाद ( Dhanbad ) से बीजेपी संसद पीएन सिंह ने पिछले डेढ़ साल से ठप पड़े जेटी रोड के काम को लेकर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को खत लिखा है। अपने खत में उन्होंने जीटी रोड के सिक्स लेनिंग को काम को प्राथमिकता के स्तर पर जल्द पूरा कराने की अपील है। उन्होंने कहा कि जीटी रोड पर काम न होने की वजह से न केवल लाखों लोग परेशान हैं बल्कि इसका असर इंटर स्टेट कारोबार पर भी हुआ है।

बीजेपी सांसद पीएन सिंह ने अपने पत्र में लिखा है कि बरवाअड्डा से पानागढ़ तक 120 किलोमीटर में जीटी राेड की सिक्सलेनिंग का काम डेढ़ साल से ठप है। जिस कंपनी को इस प्रोजेक्ट पर काम करने को कहा गया था उसका नाम आईएलएफएस है। कंपनी की आर्थिक चरमराने की वजह से वो यहां से चली गई।

Tejashwi Yadav के निशाने पर नीतीश, कहा - बिहार में लोग आपको लाइक से ज्यादा डिसलाइक करते हैं

अपने पत्र में उन्होंने नितिन गडकरी का बताया है कि इस प्राेजेक्ट का 44 किलोमीटर हिस्सा झारखंड के धनबाद जिले में है। इसके 15 किलोमीटर हिस्से में सड़क चाैड़ीकरण का काम अधूरा है। इतना ही नहीं पश्चिम बंगाल में प्राेजेक्ट के 74 किलोमीटर में करीब 3 किमी का काम अधूरा है।

पीएन सिंह ने अधूरे काम काे जल्द पूरा कराने की अपील की है। अपने पत्र में उन्होंने बताया कि बरवाअड्डा, गोविंदपुर और निरसा क्षेत्र में सड़क के कई मोड़ खतरनाक हो गए हैं। इससे लगातार सड़क हादसे होते हैं।

कंगना के समर्थन में उतरे शिवराज के मंत्री विश्वास सारंग, Aditya Thackeray से इस्तीफा लें उद्धव

नगर प्रबंधक तैनात
धनवाद के ही एक अलग मामले में नगर निगम के तीन सिटी मैनेजरों के बीच काम बांट दिया गया है। पुराने नगर आयुक्त के समय से ही सिटी मैनेजर बेकाम हो गए थे। नए नगर आयुक्त सत्येंद्र कुमार के आने के बाद भी सभी नगर प्रबंधक लगभग एक माह से कार्य बंटवारे का इंतजार कर रहे थे। जबकि इनके कनिष्ठ सहयोगियों से काम लिया जा रहा था।

बताया जा रहा है कि धनबाद नगर निगम के लोगों की नियुक्ति को विवाद चल रहा था। इनमें कार्यक्रम पदाधिकारी भी शामिल थे। इन लोगों की नियुक्ति 2016 में स्थानीय स्तर पर की गई थी। नए आदेश के तहत विवादित कर्मचारियों को काम से हटाकर नगर प्रबंधकों की तैनाती की गई है।

Dhirendra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned