स्तन कैंसर जागरूकता माहः गुलाबी रोशनी से सजा CST, जानलेवा बीमारी से बचा सकती हैं ये सावधानियां

स्तन कैंसर जागरूकता माहः गुलाबी रोशनी से सजा CST, जानलेवा बीमारी से बचा सकती हैं ये सावधानियां

Pritesh Gupta | Publish: Oct, 11 2018 10:35:16 PM (IST) | Updated: Oct, 11 2018 10:35:17 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

दुनियाभर में अक्टूबर का महीना स्तन कैंसर के प्रति जागरूकता माह (ब्रेस्ट कैंसर अवेयरनेस मंथ) के रूप में मनाया जाता है।

मुंबई। इंटरनेशनल गर्ल चाइल्ड डे के मौके पर गुरुवार को देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के प्रसिद्ध छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस गुलाबी रोशनी से सजाया गया। शाम छह बजे से साढ़े नौ बजे तक यह खूबसूरत इमारत गुलाबी रोशनी से सराबोर थी। इसका मकसद स्तन कैंसर के प्रति जागरूकता फैलाना है। इसके कुछ देर बाद नवरात्रि का दूसरा दिन होने के चलते इमारत का रंग पीला हो गया। उल्लेखनीय है कि दुनियाभर में अक्टूबर का महीना स्तन कैंसर के प्रति जागरूकता माह (ब्रेस्ट कैंसर अवेयरनेस मंथ) के रूप में मनाया जाता है।

समय पर स्क्रीनिंग नहीं करवाना हानिकारक

गौरतलब है कि स्तन कैंसर महिलाओं को होने वाली बीमारियों में सबसे आक्रामक माना जाता है। भारत में भी इस बीमारी से पीड़ित महिलाओं की संख्या पिछले एक अरसे में तेजी से बढ़ी है। अध्ययन के मुताबिक यह बीमारी महिलाओं को मौत तक ले जाने वाली दूसरी सबसे बड़ी बीमारी बन चुकी है। इसके बावजूद इसे लेकर भारत में पर्याप्त जागरूकता नहीं है। इस बीमारी के सबसे तेजी से फैलने की वजह सही समय पर स्क्रीनिंग नहीं होना और लक्षणों को नजरंदाज करना है।

इन बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी

- स्टेज 1 और स्टेज 2 के रोगियों को इलाज के द्वारा आसानी से बचाया जा सकता सकता है।

- स्तन कैंसर की शंका होने पर महिलाओं को हर साल स्क्रीनिंग और मेम्ब्रेन टेस्ट करवाना चाहिए।

- जंक फूड के सेवन से बचना चाहिए।

- खानपान में अंडे, मांस, मछली, सोयाबीन, दूध, दही, प्रोटीन युक्त आहार, साबुत अनाज, दलिया, साबुत दालें, फल और हरी पत्तेदार सब्जियां खाएं।

- वजन पर नियंत्रण रखें, इसे बॉडी मास इंडेक्स के हिसाब से संतुलित रखें। यानी लंबाई के हिसाब से उचित अनुपात में ही वजन होना चाहिए।

- स्तनपान से सेहत को फायदा होता है, इससे परहेज ना करें।

- रोजाना कम से कम 30 मिनट व्यायाम करने से भी स्तन कैंसर के खतरे को कम करने में मदद मिलती है।

- अंतर्वस्त्रों को लेकर भी कई सावधानियां बरतने की जरूरत होती है, इस संबंध में विशेषज्ञों से संपर्क किया जा सकता है।

Ad Block is Banned