दिल्ली में कॉल ड्रॉप की समस्या बढ़ी, एमसीडी ने 566 मोबाइल टावरों को किया सील

दिल्ली में कॉल ड्रॉप की समस्या बढ़ी, एमसीडी ने 566 मोबाइल टावरों को किया सील

Anil Kumar | Publish: Apr, 17 2018 05:30:44 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

राजधानी नई दिल्ली में लोग कॉल ड्रॉप और धीमें इंटरनेट की समस्या से परेशान हैं। इसी के मद्देनजर एमसीडी ने 566 मोबाइल टावरों को सील कर दिया है।

नई दिल्ली । राजधानी नई दिल्ली में लोग कॉल ड्रॉप और धीमें इंटरनेट की समस्या से परेशान हैं। इसी के मद्देनजर एमसीडी ने 566 मोबाइल टावरों को सील कर दिया है। ये जानकारी मंगलवार को औद्योगिक इकाई टॉवर और इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रदाता एसोसिएशन (टीएआईपीए) ने दिया। टीएआईपीए ने बताया कि दिल्ली में 11,500 मोबाइल टावर लगे हुए हैं और ग्राहकों तक निर्बाध सेवा पहुंचाने के लिए 1,150 और अधिक मोबाइल टावरों की जरुरत है, लेकिन अभी तक इसकी स्वीकृति नहीं मिली है।

2010 में बनी थी दिल्ली टावर पोलिसी

बता दें कि टीएआईपीए ने कहा है कि 48 करोड़ रुपए जमा होने के बावजूद एमसीडी ने 566 टावरों को सील कर दिया गया है। टीएआईपीए ने बताया कि एमसीडी इज ऑफ डूईंग बिजनेस, मजबूत दूरसंचार, बुनियादी ढ़ांचे का विकास और ग्राहकों की बढ़ती डेटा मांग को प्रभावित करती है। टीएआईपीए के महानिदेशक तिलक राज दुआ ने बताया कि हमने इस मामले में स्वतः संज्ञान लेते हुए ऐसे कदम उठाए हैं। उन्होंने कहा कि एमसीडी और टेलिकोम सेक्टर के बीच टावर को लगाने और सेवा देने के लिए ग्राहकों से चार्ज वसूलने के संबंध में एक-दूसरे से प्रतियोगिता कर रहे है। हालांकि उन्होंने कहा कि इस संबंध में टीएआईपी ने एमसीडी के साथ कई दौर की बैठकें की है लेकिन पीछले 8 सालों से अबतक यह इंडस्ट्री इसे फेस कर रही है।

यह भी पढ़ें : ग्रामीण डाकघर होगें डिजिटल, एमसीडी मशीन से होगा लेनदेन

बता दें कि 2010 में बनें दिल्ली टावर पोलिसी को टेलिकॉम उद्योग ने दिल्ली हाईकोर्ट में चुनौती दी है जिसमें अत्यधिक अनुमति शुल्क लेने का मामला बताया गया है। कहा गया है कि 5 साल के लिए 5 लाख रुपए और प्रति सर्विस प्रदाता को एक लाख रुपए की देने की बात की गई है।

यह भी पढ़ें : दिल्ली: एमसीडी में हार के बाद राहुल ने ठुकराया माकन और चाको का इस्तीफा, कहा- जो काम कर रहे हैं उसे रखें जारी

Ad Block is Banned