मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा बोले- EVM को न बनाएं फुटबॉल

दो दिनों के दौरे पर पटना पहुंचे मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने अधिकारियों और रानजीतिक दलों के साथ मुलाकात की।

पटना। चुनाव के दौरान EVM मशीन में खराबी आने की खबरों के बाद चुनाव आयोग की काफी किरकिरी होती रही है। हालांकि चुनाव आयोग की ओर से इस प्रक्रिया में लगातार सुधार किए जाने का आश्वासन राजनीतिक दलों को मिलता रहा है। इसी कड़ी में दो दिनों के दौरे पर पटना पहुंचे मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने अधिकारियों और रानजीतिक दलों के साथ मुलाकात की। बैठक के दौरान मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए आयोग को हर बूथ पर सीसीटीवी कैमरे लगाने के सुझाव मिले हैं। साथ ही साथ हर बूथ पर अर्थसैनिक बलों की तैनाती को लेकर भी बैठक में मंथन किया गया। उन्होंने कहा कि आयोग का हर संभव प्रयास है कि कोई भी चुनाव बिना किसी रूकावट के सफलता पूर्वक संपन्न हो।

बिहार: 2019 चुनाव से पहले भाजपा को बड़ा झटका, पूर्व सांसद ने पार्टी से दिया इस्तीफा

विभिन्न समस्याओं के समाधान को लेकर की गई चर्चा

आपको बता दें कि सुनील अरोड़ा ने आगे कहा कि इस बैठक में यह भी चर्चा की गई कि चुनाव के दौरान राजनीतिक दलों के बॉडीगार्ड पॉलिंग बूथ पर ना जाएं। राजनीतिक दलों ने चुनाव आयुक्त से यह भी शिकायत की कि दो अलग-अलग जगहों पर एक वोटर के नाम से फर्जी वोट पड़ते हैं, जिसका समाधान किया जाना चाहिए। अरोड़ा ने कहा कि नए मतदाताओं के लिए डोर टू डोर सर्विस शुरू करने पर भी बातचीत की गई। उन्होंने बताया कि हर ईवीएम मशीन के साथ वीवीपैट को जोड़ने और चुनाव में हर उम्मीदवार के लिए निर्धारित खर्च सीमा के उल्लंघन के संदर्भ में भी चर्चा हुई। सुनील अरोड़ा ने कहा कि आगामी चुनाव में हर ईवीएम के साथ वीवीपैट का इस्तेमाल किया जाएगा।

बिहार: सुशील मोदी का पलटवार, शत्रुघ्न सिन्हा जैसे लोगों के लिए भ्रष्टाचार नहीं कोई मुद्दा

विपक्ष के आरोपों पर दिया जवाब

आपको बता दें कि बैठक के दौरान सुनील अरोड़ा ने विपक्ष के उन आरोपों का भी जवाब दिया जिसमें यह कहा जाता रहा है कि सरकार चुनाव आयोग के साथ मिलकर ईवीएम में छेड़छाड़ करती है। अरोड़ा ने कहा कि 2014 के आम चुनाव में एक परिणाम आया। उसके ठीक बाद दिल्ली में विधानसभा के चुनाव में विपरित परिणाम आया। बिहार और पंजाब में भी कुछ वैसे ही परिणाम आए। इसलिए ये कहना उचित नहीं है कि यदि आपके हक में रिजल्ट ना आए तो यह कहना कि ईवीएम गलत है और हक मे आए तो सही है। आगे हर चुनाव ईवीएम से होगा। सभी राजनीतिक दलों और लोगों से निवेदन है कि ईवीएम को फुटबॉल न बनाएं।

 

 

 

Read the Latest India news hindi on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले India news पत्रिका डॉट कॉम पर.

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned