जम्मू-कश्मीर पर बोले मुख्य सचिव, लगातार घुसपैठ की कोशिश कर रहे आतंकी संगठन

जम्मू-कश्मीर पर बोले मुख्य सचिव, लगातार घुसपैठ की कोशिश कर रहे आतंकी संगठन

Dhiraj Kumar Sharma | Publish: Aug, 16 2019 03:48:46 PM (IST) | Updated: Aug, 17 2019 09:21:17 AM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

  • Jammu kashmir पर Chief Secretary BVR Subrahmanyam का बड़ा बयान
  • article 370 हटने के बाद घुसपैठ की फिराक में Terrorist
  • तेजी से सामान्य हो रहे हालात

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर ( Jammu Kashmir ) से आर्टिकल 370 ( Article 370 ) हटाए जाने के बाद मुख्य सिचव बीवीआर सुब्रमण्यम ( Chief Secretary BVR Subrahmanyam ) ने बड़ा बयान दिया है। सुब्रमण्यम ने कहा है कि आतंकी ( Terrorist ) संगठन घाटी में घुसपैठ की फिराक में हैं। अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से ही कई आतंकी संगठन बड़े हमले की ताक में हैं। लेकिन सुरक्षा एजेंसियों और सेना के जवानों ने स्थिति को नियंत्रण में रखा है।

मुख्य सचिव ने यह भी कहा कि कश्मीर में जिंदगी पटरी पर आ रही है।

सभी इलाकों में बिजली पानी की सुविधाएं बहाल हैं।

राज्‍य में अभी तक किसी भी प्रकार का कोई जानमाल का नुकसान नहीं हुआ।

पूर्व सीएम की बेटी ने अमित शाह को लिखा खत, बोली- जानवरों जैसा हो रहा बर्ताव

जम्‍मू कश्‍मीर के ताजा हालातों के बारे में मीडिया को एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के जरिये संबोधित करते हुए मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रमण्यम ने बड़ा बयान दिया।

उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में कई आतंकी संगठन घाटी में दहशत फैलाने की कोशिश में लगे हैं।

ये आतंकी किसी भी कीमत पर देश की सीमा में घुसपैठ की फिराक में हैं। हालांकि सेना ने मोर्चा संभाल रखा है।

 

कश्मीर के लोगों की जान बचाना प्राथमिकता

मुख्य सचिव ने कहा कि कश्‍मीर घाटी में कोई भी हाइवे इस वक्त बंद नहीं है।

सरकारी कर्मचारी आज से सुचारू रूप से काम कर रहे हैं।

घाटी में जिंदगी तेजी से सामान्य हो रही है। सोमवार से स्कूल भी खुल जाएंगे।

सुब्रमण्यम में कहा कि सरकार की प्राथमिकता कश्मीर के लोगों की जान बचाना है।

 

तीन तलाक और आर्टिकल 370 हटान के बाद मोदी सरकार लेने जा रही एक और फैसला, दिग्गज का दावा

पाबंदियों की हो रही समीक्षा
मुख्य सचिव ने कहा कि कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए सावधानियां बरती जा रही हैं।

ईद के दिन पाबंदियों में ढील दी गई, लेकिन 15 अगस्त के चलते कुछ पाबंदियां बनी रहीं।

इस दौरान किसी की भी जान नहीं गई।

पाबंदियों को लेकर लगातार समीक्षा की जा रही है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned